Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

नई दिल्ली। ठंड के मौसम में बाजार में फलों और सब्जियों की भरमार रहती है। इन मौसमी सब्जियों के अपने अलग फायदे हैं। इस मौसम में बाजार में पालक, सरसों, चने और बथुए का साग बड़ी मात्रा में मिलने लगते हैं। क्या आपको पता है कि बथुआ के साग खाने से कई तरह की बीमारियों से आपको निजात मिल सकती है। अगन नहीं तो हम आपको बता रहे हैं बथुए के साग के फायदे के बारे में।

 

-अगर आप रोजाना बथुए का सेवन करते हैं तो आपको गुर्दे की पथरी की समस्या नहीं होगी। 

-यह आपके अमाशय को मजबूत बनाता है। इसके सेवन से कब्ज की परेशानी से भी निजात मिलता है। यह आपके शरीर को चुस्त और फुर्तीला बनाता है।

- अगर आप पथरी की समस्या से जूझ रहे हैं तो एक गिलास कच्चे बथुए के रस में चीनी मिलाकर नित्य सेवन करें तो पथरी टूटकर बाहर निकल आएगी।


ये भी पढ़ें - कम पानी पीने वालों का ध्यान रखेगी स्मार्ट बोतल, साधारण पानी को भी बनाएगा स्वादिष्ट 

-बथुआ महिलाओं के लिए भी काफी लाभदायक है। अगर मासिक धर्म रुका हुआ हो तो दो चम्मच बथुए के बीज एक गिलास पानी में उबालें और आधा रहने पर छानकर पी जाएं। मासिक धर्म की समस्या से निजात मिलेगी।

-बथुआ के सेवन से पेशाब में जलन, पेशाब कर चुकने के बाद होने वाला दर्द, टीस उठना ठीक हो जाता है।

- कच्चे बथुए का रस एक कप में स्वादानुसार मिलाकर एक बार नित्य पीते रहने से कृमि मर जाते हैं। बथुए के बीज एक चम्मच पिसे हुए शहद में मिलाकर चाटने से भी कृमि मर जाते हैं तथा रक्तपित्त ठीक हो जाता है।  

 

Todays Beets: