Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

नई दिल्ली। ठंड के मौसम में बाजार में फलों और सब्जियों की भरमार रहती है। इन मौसमी सब्जियों के अपने अलग फायदे हैं। इस मौसम में बाजार में पालक, सरसों, चने और बथुए का साग बड़ी मात्रा में मिलने लगते हैं। क्या आपको पता है कि बथुआ के साग खाने से कई तरह की बीमारियों से आपको निजात मिल सकती है। अगन नहीं तो हम आपको बता रहे हैं बथुए के साग के फायदे के बारे में।

 

-अगर आप रोजाना बथुए का सेवन करते हैं तो आपको गुर्दे की पथरी की समस्या नहीं होगी। 

-यह आपके अमाशय को मजबूत बनाता है। इसके सेवन से कब्ज की परेशानी से भी निजात मिलता है। यह आपके शरीर को चुस्त और फुर्तीला बनाता है।

- अगर आप पथरी की समस्या से जूझ रहे हैं तो एक गिलास कच्चे बथुए के रस में चीनी मिलाकर नित्य सेवन करें तो पथरी टूटकर बाहर निकल आएगी।


ये भी पढ़ें - कम पानी पीने वालों का ध्यान रखेगी स्मार्ट बोतल, साधारण पानी को भी बनाएगा स्वादिष्ट 

-बथुआ महिलाओं के लिए भी काफी लाभदायक है। अगर मासिक धर्म रुका हुआ हो तो दो चम्मच बथुए के बीज एक गिलास पानी में उबालें और आधा रहने पर छानकर पी जाएं। मासिक धर्म की समस्या से निजात मिलेगी।

-बथुआ के सेवन से पेशाब में जलन, पेशाब कर चुकने के बाद होने वाला दर्द, टीस उठना ठीक हो जाता है।

- कच्चे बथुए का रस एक कप में स्वादानुसार मिलाकर एक बार नित्य पीते रहने से कृमि मर जाते हैं। बथुए के बीज एक चम्मच पिसे हुए शहद में मिलाकर चाटने से भी कृमि मर जाते हैं तथा रक्तपित्त ठीक हो जाता है।  

 

Todays Beets: