Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

नई दिल्ली। ठंड के मौसम में बाजार में फलों और सब्जियों की भरमार रहती है। इन मौसमी सब्जियों के अपने अलग फायदे हैं। इस मौसम में बाजार में पालक, सरसों, चने और बथुए का साग बड़ी मात्रा में मिलने लगते हैं। क्या आपको पता है कि बथुआ के साग खाने से कई तरह की बीमारियों से आपको निजात मिल सकती है। अगन नहीं तो हम आपको बता रहे हैं बथुए के साग के फायदे के बारे में।

 

-अगर आप रोजाना बथुए का सेवन करते हैं तो आपको गुर्दे की पथरी की समस्या नहीं होगी। 

-यह आपके अमाशय को मजबूत बनाता है। इसके सेवन से कब्ज की परेशानी से भी निजात मिलता है। यह आपके शरीर को चुस्त और फुर्तीला बनाता है।

- अगर आप पथरी की समस्या से जूझ रहे हैं तो एक गिलास कच्चे बथुए के रस में चीनी मिलाकर नित्य सेवन करें तो पथरी टूटकर बाहर निकल आएगी।


ये भी पढ़ें - कम पानी पीने वालों का ध्यान रखेगी स्मार्ट बोतल, साधारण पानी को भी बनाएगा स्वादिष्ट 

-बथुआ महिलाओं के लिए भी काफी लाभदायक है। अगर मासिक धर्म रुका हुआ हो तो दो चम्मच बथुए के बीज एक गिलास पानी में उबालें और आधा रहने पर छानकर पी जाएं। मासिक धर्म की समस्या से निजात मिलेगी।

-बथुआ के सेवन से पेशाब में जलन, पेशाब कर चुकने के बाद होने वाला दर्द, टीस उठना ठीक हो जाता है।

- कच्चे बथुए का रस एक कप में स्वादानुसार मिलाकर एक बार नित्य पीते रहने से कृमि मर जाते हैं। बथुए के बीज एक चम्मच पिसे हुए शहद में मिलाकर चाटने से भी कृमि मर जाते हैं तथा रक्तपित्त ठीक हो जाता है।  

 

Todays Beets: