Monday, May 28, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बथुआ है औषधीय गुणों से भरपूर, रोजाना करें सेवन और कई बीमारियों से पाएं निजात

नई दिल्ली। ठंड के मौसम में बाजार में फलों और सब्जियों की भरमार रहती है। इन मौसमी सब्जियों के अपने अलग फायदे हैं। इस मौसम में बाजार में पालक, सरसों, चने और बथुए का साग बड़ी मात्रा में मिलने लगते हैं। क्या आपको पता है कि बथुआ के साग खाने से कई तरह की बीमारियों से आपको निजात मिल सकती है। अगन नहीं तो हम आपको बता रहे हैं बथुए के साग के फायदे के बारे में।

 

-अगर आप रोजाना बथुए का सेवन करते हैं तो आपको गुर्दे की पथरी की समस्या नहीं होगी। 

-यह आपके अमाशय को मजबूत बनाता है। इसके सेवन से कब्ज की परेशानी से भी निजात मिलता है। यह आपके शरीर को चुस्त और फुर्तीला बनाता है।

- अगर आप पथरी की समस्या से जूझ रहे हैं तो एक गिलास कच्चे बथुए के रस में चीनी मिलाकर नित्य सेवन करें तो पथरी टूटकर बाहर निकल आएगी।


ये भी पढ़ें - कम पानी पीने वालों का ध्यान रखेगी स्मार्ट बोतल, साधारण पानी को भी बनाएगा स्वादिष्ट 

-बथुआ महिलाओं के लिए भी काफी लाभदायक है। अगर मासिक धर्म रुका हुआ हो तो दो चम्मच बथुए के बीज एक गिलास पानी में उबालें और आधा रहने पर छानकर पी जाएं। मासिक धर्म की समस्या से निजात मिलेगी।

-बथुआ के सेवन से पेशाब में जलन, पेशाब कर चुकने के बाद होने वाला दर्द, टीस उठना ठीक हो जाता है।

- कच्चे बथुए का रस एक कप में स्वादानुसार मिलाकर एक बार नित्य पीते रहने से कृमि मर जाते हैं। बथुए के बीज एक चम्मच पिसे हुए शहद में मिलाकर चाटने से भी कृमि मर जाते हैं तथा रक्तपित्त ठीक हो जाता है।  

 

Todays Beets: