Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

केक पर लगी मोमबत्तियां फूंकना हो सकता है सेहत के लिए हानिकारक, फैलता है संक्रमण का खतरा

अंग्वाल संवाददाता
केक पर लगी मोमबत्तियां फूंकना हो सकता है सेहत के लिए हानिकारक, फैलता है संक्रमण का खतरा

वशिंगटन। जन्मदिन के मौके पर केक काटने और मोमबती बुझाना पुराना रिवाज है, लेकिन यह जलती मोमबत्तियां बुझाना आपकी सेहत पर भारी पड़ सकता है। हाल ही में शोधकर्ताओं ने खुलासा किया है कि इन मोमबत्तियों को बुझाने से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। बता दें कि पहले की तुलना में केक पर लगी मोमबत्तियों को बुझाने की इस लोकप्रिय परंपरा में 1400 फीसदी तक इजाफा हुआ है। अमेरिका की क्लेमसन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने जांच की कि आखिर केक पर लगी मोमबत्तियों से किस प्रकार बैक्टीरिया मनुष्य के शरीर पर असर डालते हैं। 

 

 

यह भी पढ़े- जानिए BP, कोलेस्ट्राल के साथ और किन अन्यों चीजों में सेहत के लिए फायदेमंद होता है पपीता  


 

अध्ययन में पाया गया कि मनुष्य की सांस में मौजूद एरोसॉल के कारण बैक्टीरिया केक में शामिल हो जाते हैं। शोधकर्ताओं ने बताया, कि जन्मदिन पर केक काटने से पहले उस पर लगी मोमबत्तियां बुझाने की पंरपरा कैसे शुरू हुई इसके बारे में अलग-अलग तरह की राय है। केक पर मोमबत्ती लगाने का रिवाज सबसे पहले यूनान में शुरू हुआ था। तब लोग केक पर मोमबत्तियां लगा कर आर्टिमिस देवी के मंदिर जाते थे। उनका मानना था कि इसे धुएं से उनकी प्रार्थना ईश्वर तक पहुंचेगी।  

 

यह भी पढ़े- जानिएं कैसे पाएं सिगरेट पीने की लत से छुटकारा...

Todays Beets: