Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

फुलक्रम दूध पिएं और अपने दिल को रखेें सेहतमंद, शोध में हुआ खुलासा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फुलक्रम दूध पिएं और अपने दिल को रखेें सेहतमंद, शोध में हुआ खुलासा

नई दिल्ली। आज के नौजवान अपने स्वास्थ्य को लेकर काफी सजग हैं। ऐसे में वे अपने खान-पान का भी खास ख्याल रखते हैं। नौजवानों का अक्सर ऐसा मानना है कि फुलक्रीम दूध से शरीर में चर्बी बढ़ जाती है, यही वजह है कि वे टोंड दूध पीने मंे ज्यादा यकीन रखते हैं। क्या आपको पता है कि फुलक्रीम दूध दिल के लिए काफी अच्छा माना गया है। 

गौरतलब है कि कनाडा के मैकमास्टर विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने 21 देशों के 35 से 70 वर्ष के बीच के 1,36,384 लोगों पर अध्ययन किया गया। 9 सालों के दौरान हुए इस अध्ययन में डेयरी उत्पादों के सेवन से स्वास्थ्य पर असर की निगरानी की गई। अध्ययन के लिए प्रतिभागियों को 4 अलग-अलग श्रेणियों में विभाजित किया गया। एक में जिन्होंने डेयरी उत्पाद बिल्कुल नहीं खाया, दूसरे में जिन्होंने एक दिन में एक बार, तीसरे में एक दिन में दो बार और चैथे में एक दिन में दो बार से अधिक बार खाने वालों को रखा गया।


ये भी पढ़ें - इन प्राकृतिक उपायों को अपनाएं और मलेरिया-चिकनगुनिया को दूर भगाएं

आपको बता दें कि शोध में इस बात का खुलासा हुआ कि डेयरी उत्पाद न लेने वालों के मुकाबले जिन लोगों ने एक दिन में दो से अधिक बार डेयरी उत्पाद लिए थे, उनमें मृत्यु दर कम थी और दिल की बीमारी कार्डियोवैस्कुलर होने या स्ट्रोक का खतरा कम था। यहां गौर करने वाली बात है कि अध्ययन के नतीजे द लैंसेंट जर्नल में प्रकाशित हुए हैं। ऐसे में डेयरी उत्पादों को खाने से किसी तरह का परहेज नहीं करना चाहिए।  

Todays Beets: