Tuesday, May 21, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

गर्मियों की दस्तक के साथ ही चमका सेहत का बाजार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गर्मियों की दस्तक के साथ ही चमका सेहत का बाजार

नई दिल्ली, अंग्वाल न्यूज ब्यूरो: साल भर कभी औसत तो कभी मंदा चलने वाला सेहत का कारोबार गर्मियों के दिनों में आम के बाग से भी ज्यादा फल देने वाला और पिकनिक स्प़ॉट से भी ज्यादा मुनाफा बटोरने वाला कारोबार बन जाता है। साल भर बच्चों को किताबों के पीछे धकेलने वाले माता पिता बच्चों को जबरन स्टेडियम और फिटनस क्लब में धकेलने लगे हैं। वहीं कॉलेज में आने वाले स्टूडेंट्स नए सेशन में अपन इंप्रेशन को ठीक करने के लिए सेहत की दुनिया में जमकर पसीना बहा रहे हैं।

स्वामी विवेकानंद कहा करते थे कि अगर आपका मन खेल के मैदान में जाने का कर रहा है तो मंदिर नहीं फुटबॉल खेलने चले जाना चाहिए। क्यूंकि आपका भगवान आपको खेल के मैदान में ही मिलेगा। फिलदिनों खेल के मैदान, मॉर्निंग वॉक के पार्क से लेकर जिमनेजियम तक सभी का खिलाड़ियों और क्लाइंट्स का इंतजार खत्म हो चुका है। सेहत के कारोबार में गरमियों की छुट्टियों का इंतजार स्टॉक एक्सचेंज से भी ज्यादा चांदी काटने का मौसम होता है। साल भर में गिने-चुने कसरती क्लाइंट्स का ख्याल रखने वाले जिमनेजियम और फिटनेस क्लब में अचानक ही भीड़ नजर आने लगी है और जिम के संचालक भी इस मौसम को ज्यादा से ज्यादा आकर्षक दामों पर कैश कराने में लगे हैं।

ये भी पढ़ें -  सिर्फ हफ्ते भर की मोहलत और,  दिल्ली पर टूटने वाला है कहर...

अचानक चढ़ा फिटनस का ये भूत किसी भी जिम के संचालकों या ट्रेनर के लिए नया नहीं है। हर साल गर्मियों का मौसम ज्यादा से ज्यादा लोगों की आवक वाला सीजन होता है। वहीं पर्सनल ट्रेनर से लेकर जुंबा, पिलाटे, मार्शल आर्ट्स, डांस टीचर्स और योग शिक्षकों तक के लिए साल के ये महीने सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाले दिनों में से होते हैं। बच्चों की गर्मियों की छुट्टियां पड़ते ही इस भीड़ में और ज्यादा इजाफा होने की उम्मीद है। 


खेल के मैदानों से लेकर लोकप्रिय खेलों की खास एकेडमी पर भी मौसमी जोर पकड़ती होड़ असर दिखाने लगी है। स्केटिंग क्लास से लेकर क्रिकेट, टेनिस, बैडमिंटन और सभी खेलों में यकायक नवयुवा खिलाड़ियों की भीड़ बेतहाशा बड़ गई है और एकेडमी मुंह मांगे दामों पर इस मौसम को कमाने में जुटे हैं। खास गर्मियों का तोहफा समझे जाने वाले स्वीमिंग पूल के सभी बैच ठसाठस भर के चलने लगे हैं। हालांकि सभी एकेडमी से लेकर जिम और फिटनेस सेंटर भी अच्छी तरह समझते हैं कि आम के मौसम में फलने-फूलने वाला ये कारोबार स्कूली छुट्टियों के खत्म होने के साथ ही सिमट जाता है। और बाकी के साल के लिए सिर्फ रेग्यूलर क्लाइंट ही कंटीन्यू कर पाते हैं। मगर फिर भी इस मौसमी मुनाफे को बटोरने के लिए सभी सेंटर में समर स्पेशल स्कीम जोरों पर हैं।

बढ़ी हुई चर्बी ऐसे करें कम, खाने में शामिल करें इन सूपरफॅड्स को और घटाएं वजन

पार्कों में भी सुबह की सैर करने वालों के ट्रैक की जगह छात्रों की दौड़ भाग ने हथिया ली है। अलसुबह से ही अपने रेजेल्यूशन पर अमल करने के लिए छात्रों का जत्था दिन उगने से पहले ही पार्कों में फुटबॉल क्रिकेट का बल्ला थामे अपनी जगह सिक्योर करने में जुट जाता है। मगर इसे इंजॉय करते हुए रोजाना के घुमक्कड़ भी अक्सर बच्चों की इस टीम में बंट जाते हैं और पार्क और भी गुलजार होते जाते हैं।

Todays Beets: