Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

कैंसर पीड़ितों को नहीं सहना पड़ेगा इलाज के दौरान जानलेवा दर्द, जेएनयू के वैज्ञानिक डॉक्टर ने खोज निकाली यह दवा 

अंग्वाल संवाददाता
कैंसर पीड़ितों को नहीं सहना पड़ेगा इलाज के दौरान जानलेवा दर्द, जेएनयू के वैज्ञानिक डॉक्टर ने खोज निकाली यह दवा 

नई दिल्ली। जेएनयू के एक वैज्ञानिक प्रोफेसर ने कैंसर के इलाज के दौरान होने वाली जानलेवा दर्द को दूर करने की दवा खोज निकाली है। इससे उन्होंने कैंसर पीडितों में भी इलाज के लिए भी कुछ सकारात्मक आस जगाई है। वैज्ञानिक डॉक्टर आर पी सिंह ने बताया है कि इस दवा को कुछ पौधों से तैयार किया गया है, जो रेडियो व कीमोथैरेपी के जानलेवा दुष्प्रभावों को खत्म कर देती है। आर पी सिंह का कहना है कि इस दवा से कैंसर के इलाज में कीमोथैरेपी के दौरान पीड़ितों में खून की कमी, बाल झड़ने व वजन घटने जैसी समस्याएं दूर की जा सकेंगी।

यह भी पढ़े-  मोजे उतारते ही पैरों से आती है बदबू, इन नुस्खों से करें दूर

 इंसान की प्रकृति के दायरे में आने वाले जानवर जैसे चूहे पर इस दवा का परीक्षण किया गया है। जो काफी हद तक सफल भी रहा। इसी के साथ एम्स सहित दिल्ली के कई बड़े अस्पतालों में इस दवा के परीक्षण की तैयारी चल रही है। परीक्षण की सफलता के बाद इस दवा को बाजार में पीड़ितों के इलाज के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। इसे भारत के चिकित्सा क्षेत्र में बहुत बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। 


यह भी पढ़े- मानसून में फ्लू से रहते हैं परेशान तो अपनाएं इन नुस्खों को..,

आपको बता दें कि कीमोथैरिपी  से स्वस्थ्य और सक्रिय कोशिकाओं पर घातक असर पड़ता है। इससे वह मरने लगती हैं। ऐसे में पीड़ित का वजन तेजी से घटने लगता है। इसके साथ खून की कमी और खाने में दिक्कत आने लगती है। कीमोथैरेपी के दौरान मरीज को एक जानलेवा दर्द सहना पड़ता है। वहीं वैज्ञानिक डॉक्टर आरपी सिंह ने इस दवा को केवल पौधे की सहायता से तैयार किया है। इस दवा में मल्कि थील्स व आरटी चोक नाम के पौधों में पाए जाने वाले सेलिबीनिन नाम के यौगिक का इस्तेमाल किया गया है। आर पी सिंह ने बताया कि कीमोथैरेपी के दौरान सेलिबीनिन के प्रयोग से सिर्फ कैंसर की कोशिकाएं ही नहीं मरती बल्कि इससे अन्य कोशिकाओं को भी भारी मात्रा में नुकसान पहुंचता हैं।

यह भी पढ़े- जानिए सेहत के लिए कितना फायदेमंद है 1 गिलास डबल टोंड मिल्क

Todays Beets: