Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

कैंसर पीड़ितों को नहीं सहना पड़ेगा इलाज के दौरान जानलेवा दर्द, जेएनयू के वैज्ञानिक डॉक्टर ने खोज निकाली यह दवा 

अंग्वाल संवाददाता
कैंसर पीड़ितों को नहीं सहना पड़ेगा इलाज के दौरान जानलेवा दर्द, जेएनयू के वैज्ञानिक डॉक्टर ने खोज निकाली यह दवा 

नई दिल्ली। जेएनयू के एक वैज्ञानिक प्रोफेसर ने कैंसर के इलाज के दौरान होने वाली जानलेवा दर्द को दूर करने की दवा खोज निकाली है। इससे उन्होंने कैंसर पीडितों में भी इलाज के लिए भी कुछ सकारात्मक आस जगाई है। वैज्ञानिक डॉक्टर आर पी सिंह ने बताया है कि इस दवा को कुछ पौधों से तैयार किया गया है, जो रेडियो व कीमोथैरेपी के जानलेवा दुष्प्रभावों को खत्म कर देती है। आर पी सिंह का कहना है कि इस दवा से कैंसर के इलाज में कीमोथैरेपी के दौरान पीड़ितों में खून की कमी, बाल झड़ने व वजन घटने जैसी समस्याएं दूर की जा सकेंगी।

यह भी पढ़े-  मोजे उतारते ही पैरों से आती है बदबू, इन नुस्खों से करें दूर

 इंसान की प्रकृति के दायरे में आने वाले जानवर जैसे चूहे पर इस दवा का परीक्षण किया गया है। जो काफी हद तक सफल भी रहा। इसी के साथ एम्स सहित दिल्ली के कई बड़े अस्पतालों में इस दवा के परीक्षण की तैयारी चल रही है। परीक्षण की सफलता के बाद इस दवा को बाजार में पीड़ितों के इलाज के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। इसे भारत के चिकित्सा क्षेत्र में बहुत बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। 


यह भी पढ़े- मानसून में फ्लू से रहते हैं परेशान तो अपनाएं इन नुस्खों को..,

आपको बता दें कि कीमोथैरिपी  से स्वस्थ्य और सक्रिय कोशिकाओं पर घातक असर पड़ता है। इससे वह मरने लगती हैं। ऐसे में पीड़ित का वजन तेजी से घटने लगता है। इसके साथ खून की कमी और खाने में दिक्कत आने लगती है। कीमोथैरेपी के दौरान मरीज को एक जानलेवा दर्द सहना पड़ता है। वहीं वैज्ञानिक डॉक्टर आरपी सिंह ने इस दवा को केवल पौधे की सहायता से तैयार किया है। इस दवा में मल्कि थील्स व आरटी चोक नाम के पौधों में पाए जाने वाले सेलिबीनिन नाम के यौगिक का इस्तेमाल किया गया है। आर पी सिंह ने बताया कि कीमोथैरेपी के दौरान सेलिबीनिन के प्रयोग से सिर्फ कैंसर की कोशिकाएं ही नहीं मरती बल्कि इससे अन्य कोशिकाओं को भी भारी मात्रा में नुकसान पहुंचता हैं।

यह भी पढ़े- जानिए सेहत के लिए कितना फायदेमंद है 1 गिलास डबल टोंड मिल्क

Todays Beets: