Monday, June 17, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक से बच्चों को रखें दूर, मोटापे के साथ मानसिक रूप से हो सकते हैं बीमार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक से बच्चों को रखें दूर, मोटापे के साथ मानसिक रूप से हो सकते हैं बीमार

नई दिल्ली। आज की इस तेज रफ्तार जिन्दगी में लोगों के पास सही तरीके से भोजन तक करने का समय नहीं है। ऐसे में वे एनर्जी ड्रिंक या हाई कैलोरी वाली ड्रिंक का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इसे पीने के बाद वे काफी फ्रेश महसूस करते हैं लेकिन उन्हें इस बात का पता नहीं होता वे अंजाने में मोटापे को न्योता दे रहे हैं। इसके साथ बच्चों में इसकी वजह से मानसिक बीमारी भी पैदा हो जाती है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे एनर्जी ड्रिंक बच्चों को बेचने पर प्रतिबंध लगाना सही रहेगा। 

गौरतलब है कि बच्चों और युवाओं को मोटापा और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से बचाने के लिए उन्हें कैफीन वाले एनर्जी ड्रिंक से दूर रखने की जरूरत है। ऐसा कहा जाता है कि कैफीन को दुनिया भर में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला साइकोएक्टिव ड्रग है। यह इंसान की शारीरिक सक्रियता को बढ़ा देता है। 

ये भी पढ़ें-फुलक्रम दूध पिएं और अपने दिल को रखेें सेहतमंद, शोध में हुआ खुलासा


यहां बता दें कि ब्रिटेन के रॉयल कॉलेज ऑफ पेडियाट्रिक्स एंड चाइल्ड हेल्थ (आरसीपीसीएच) के प्रोफेसर रसेल वाइनर का कहना है कि कैफीन बेचैनी को भी बढ़ाता है और नींद में रुकावट भी पैदा करता है। शोध में इस बात का भी पता चला है कि कैफीन बच्चों के दिमाग पर बहुत अच्छा असर नहीं डालता है। प्रोफेसर रसेल वाइनर ने कहा कि तंबाकू की तरह कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक्स को बच्चों को बेचने पर प्रतिबंध लगाना चाहिए ताकि मानसिक समस्या को एक महामारी बनने से रोका जा सके। 

 

Todays Beets: