Tuesday, May 21, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

हमेशा तेज आवाज के संपर्क में रहने वाले हो जाएं सावधान, हो सकते हैं इन बीमारियों के शिकार 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हमेशा तेज आवाज के संपर्क में रहने वाले हो जाएं सावधान, हो सकते हैं इन बीमारियों के शिकार 

नई दिल्ली। आज नौजवानों को शोरगुल और तेज आवाज वाली म्यूजिक सुनने में काफी मजा आता है। यहां तक कि आपने बसों या मेट्रो में भी लोगों को अपने कानों में इयरफोन पर काफी तेज आवाज में गाने सुनते हुए देखा होगा। क्या आपको पता है कि तेज आवाज में गाने सुनने या लगातार उस इलाके में रहने से आप कई तरह की बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। आइए हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे हैं।

गौरतलब है कि तेज आवाज, कानों के लिए कितनी खतरनाक होती है ये बात हमें बचपन से सिखाई जाती है। हमें स्कूल से ही सिखाया जाता है कि शोर कम करें, धीरे बोलें क्योंकि कानों तक पहुंचने वाली तेज आवाज कान के पर्दे तक फाड़ सकती है। कुछ स्टडीज की मानें तो ट्रैफिक में सुनाई देने वाले शोर से हाई ब्लड प्रशेर, दिल की बीमारी, हार्ट फेल, डाईबिटीज, डिप्रेशन, शॉर्ट टर्म मेमोरी, नींद की कमी होना जैसी कई बीमारियां तक हो सकती हैं।

याददाश्त होती है कमजोर 

ट्रैफिक का शोक बड़ों से ज्यादा बच्चों की सीखने की क्षमता पर असर डालता है। स्टडी की मानें तो ज्यादा वक्त शोर के आसपास रहने से बच्चों की याद्दाश्त कमजोर हो जाती है और उनकी सीखने की क्षमता भी कम हो जाती है। ये समस्या लड़कियों की अपेक्षा लड़कों में जल्दी होती है। 

ये भी पढ़ें - कच्चा प्याज खाने के हैं अनगिनत फायदे, रोजाना करें इस्तेमाल और टेंशन से रहें दूर


नींद भी होती है प्रभावित 

शोरगुल वाला माहौल काम को तो प्रभावित करता ही है। साथ ही साथ ये आपकी नींद को भी प्रभावित करता है। 50 डेसीबल से अधिक तीव्र ध्वनि नींद को प्रभावित करते हैं। जिससे नींद पूरी नहीं होती और आपकी कार्यक्षमता इससे प्रभावित होती है।

ब्लड प्रेशर बढ़ाता है 

तेज ध्वनि दिल की धड़कनों, रक्त के प्रवाह को बढ़ा देता है। इससे ब्लड प्रेशर भी बढ़ जाता है यही कारण है तेज ध्वनि के संपर्क में लगातार रहने से हार्ट-अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

 

Todays Beets: