Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

मोटापे से परेशान लोगों के लिए खुशखबरी, यह दवाई करेगा काम, भोजन कम करने की जरूरत नहीं  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मोटापे से परेशान लोगों के लिए खुशखबरी, यह दवाई करेगा काम, भोजन कम करने की जरूरत नहीं  

नई दिल्ली। आज हमारे रहन-सहन और खान-पान की वजह से मोटापा बढ़ना आम समस्या हो गई है। शरीर की बढ़ी हुई चर्बी को कम करने के लिए इंसान न जाने कितने तरह के कदम उठाते हैं। इसमें पार्क से लेकर जिम में पैसे देकर पसीना बहाना तक शामिल है। अगर आप भी ऐसी ही समस्या से गुजर रहे हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। शोधकर्ता एक ऐसी दवा तैयार कर रहे हैं जो बिना डाईटिंग के आपके वजह को कम कर सकते हैं। 

मेटाबाॅलिज्म को बढ़ाने में मददगार

आपको बता दें कि शोधकर्ताओं ने बताया कि यह दवाई आपके शरीर में चर्बी को बढ़ाने वाली कोशिका मेटाबॉलिज्म बढ़ाकर सिर्फ अतिरिक्त चर्बी को ही खत्म करता है। वैज्ञानिकों ने मेटाबॉलिक ब्रेक को मोटी सफेद वसा कोशिकाओं में सक्रिय होने से रोकने में मदद करने वाले तत्व को खोज निकाला है। मेटाबॉलिक ब्रेक को रोकने के बाद वे सफेद वसा कोशिकाओं में मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में सक्षम हो सके हैं। 


ये भी पढ़ें - सर्दियों में भी लगाएं सनस्क्रीन लोशन, नहीं तो त्वचा पर हो सकते हैं काले धब्बे

चूहों पर किया गया सफल प्रयोग

इस शोध की मुख्य लेखिका टेक्सास मेडिकल शाखा विश्वविद्यालय की हर्शिनी नीलकांतन ने बताया, ‘‘फैट सेल ब्रेक की क्रिया को रोकने से एक नई वसा से जुड़ी प्रणाली का पता चला, जिसकी सहायता से कोशिकाओं की मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने तथा सफेद वसा कोशिकाओं की संख्या को कम करने में मदद मिली। इससे मोटापे और उससे संबंधित मेटाबॉलिक (चयापचय संबंधी) बीमारियों के मूल कारण का इलाज होता है।’’ आपको बता दें कि टेक्सास में बायोकेमिकल फामार्कोलॉजी नामक जर्नल में इस शोध को प्रकाशित किया गया है। इस शोध का परीक्षण चूहों पर किया गया जिसमें इसके सकारात्मक असर दिखाई दिया। बता दें कि अध्ययन के दौरान चूहों को मोटा होने तक उच्च वसा युक्त भोजन दिया गया जिसके बाद उन्हें परीक्षण के लिए यह नई दवा दी गई साथ ही प्लेसबो दवा दी गई।  

Todays Beets: