Sunday, May 27, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

नई दिल्ली। बदलते मौसम में बीमारियों ने भी दस्तक देना शुरू कर दिया है। इस मौसम में वायरल बुखार और मलेरिया की बीमारी ज्यादा होने की संभावना रहती है। ऐसे में मलेरिया की पहचान के लिए खून की जांच कराने के बाद ही इसकी पुष्टि हो पाती है लेकिन अब इंसानों के शरीर की गंध से भी मलेरिया का पता लगाया जा सकेगा। अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है। 

गौरतलब है कि बीमारी की जांच के लिए खून की जांच काफी जरूरी माना जाता है लेकिन कई बार लोग जांच के लिए खून देने से कतराते हैं या डरते हैं ऐसे लोगों के लिए काफी अच्छी खबर है। अब उन्हें बीमारी की पुष्टि के लिए खून देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। चूहों पर किए गए शोध में पता चला कि मलेरिया होने पर उसके शरीर के गंध में परिवर्तन हो गया। 


 ये भी पढ़ें - हमेशा तेज आवाज के संपर्क में रहने वाले हो जाएं सावधान, हो सकते हैं इन बीमारियों के शिकार 

    अमेरिका की पेन्सिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी की सहायक प्रोफेसर कॉनसूएलो ड मोरैस ने कहा कि चूहे के एक मॉडल पर किए गए हमारे अध्ययन में पता चला कि मलेरिया का संक्रमण होने पर चूहे के शरीर की गंध बदल गयी और वह मच्छरों को ज्यादा आकर्षित करने लगे, खासकर संक्रमण के उस दौर में जब मच्छरों का संक्रामक स्तर काफी ज्यादा था। उन्होंने कहा कि हमने संक्रमित चूहों के शरीर की गंध में लंबे समय में होने वाले बदलावों का भी पता लगाया। 

Todays Beets: