Friday, November 16, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

नई दिल्ली। बदलते मौसम में बीमारियों ने भी दस्तक देना शुरू कर दिया है। इस मौसम में वायरल बुखार और मलेरिया की बीमारी ज्यादा होने की संभावना रहती है। ऐसे में मलेरिया की पहचान के लिए खून की जांच कराने के बाद ही इसकी पुष्टि हो पाती है लेकिन अब इंसानों के शरीर की गंध से भी मलेरिया का पता लगाया जा सकेगा। अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है। 

गौरतलब है कि बीमारी की जांच के लिए खून की जांच काफी जरूरी माना जाता है लेकिन कई बार लोग जांच के लिए खून देने से कतराते हैं या डरते हैं ऐसे लोगों के लिए काफी अच्छी खबर है। अब उन्हें बीमारी की पुष्टि के लिए खून देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। चूहों पर किए गए शोध में पता चला कि मलेरिया होने पर उसके शरीर के गंध में परिवर्तन हो गया। 


 ये भी पढ़ें - हमेशा तेज आवाज के संपर्क में रहने वाले हो जाएं सावधान, हो सकते हैं इन बीमारियों के शिकार 

    अमेरिका की पेन्सिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी की सहायक प्रोफेसर कॉनसूएलो ड मोरैस ने कहा कि चूहे के एक मॉडल पर किए गए हमारे अध्ययन में पता चला कि मलेरिया का संक्रमण होने पर चूहे के शरीर की गंध बदल गयी और वह मच्छरों को ज्यादा आकर्षित करने लगे, खासकर संक्रमण के उस दौर में जब मच्छरों का संक्रामक स्तर काफी ज्यादा था। उन्होंने कहा कि हमने संक्रमित चूहों के शरीर की गंध में लंबे समय में होने वाले बदलावों का भी पता लगाया। 

Todays Beets: