Wednesday, October 24, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

शादीशुदा लोग डिप्रेशन का कम होते हैं शिकार, शोध में हुआ खुलासा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शादीशुदा लोग डिप्रेशन का कम होते हैं शिकार, शोध में हुआ खुलासा

नई दिल्ली।  यह कहावत तो हम सभी ने सुनी होगी कि ‘शादी का लडडू जो खाए वह भी पछताए और जो न खाए वह भी पछताए’। क्या आपको पता है कि शादी कर गृहस्थ जीवन बिताने वाले लोग अवसाद या डिप्रेशन के शिकार कम होते हैं। अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का पता चला है कि ऐसे लोग जो सालाना 60 हजार अमेरिकी डाॅलर कमाते हैं और पत्नी के साथ रहते हैं वे इससे ज्यादा कमाकर अकेले रहने वाले लोगों की तुलना में ज्यादा सुखी हैं। 

गौरतलब है कि ऐसा अक्सर देखा जाता है कि शादी के बाद लोगों की जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं जिससे लोगों के व्यवहार में काफी बदलाव आ जाता है और वे अवसाद या डिप्रेशन के शिकार कम होते हैं। अमेरिका में 22 से लेकर 80 साल के करीब 3 हजार लोगों पर किए गए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है।  इस सर्वेक्षण में सामाजिक , मनोवैज्ञानिक , मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य विषय शामिल हैं।  शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि विदेशों की तुलना में भारत में रहने वाले ऐसे लोग ज्यादा सुखी जीवन व्यतीत करते हैं। 


ये भी पढ़ें - दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

हालांकि अमेरिका में जॉर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक अधिक कमाई वाले जोड़ों के लिए शादी से उसी तरह के मानसिक स्वास्थ्य लाभ नहीं दिखते है। जर्नल सोशल साइंस रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन में यह बात कही गयी है।

Todays Beets: