Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

शादीशुदा लोग डिप्रेशन का कम होते हैं शिकार, शोध में हुआ खुलासा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शादीशुदा लोग डिप्रेशन का कम होते हैं शिकार, शोध में हुआ खुलासा

नई दिल्ली।  यह कहावत तो हम सभी ने सुनी होगी कि ‘शादी का लडडू जो खाए वह भी पछताए और जो न खाए वह भी पछताए’। क्या आपको पता है कि शादी कर गृहस्थ जीवन बिताने वाले लोग अवसाद या डिप्रेशन के शिकार कम होते हैं। अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का पता चला है कि ऐसे लोग जो सालाना 60 हजार अमेरिकी डाॅलर कमाते हैं और पत्नी के साथ रहते हैं वे इससे ज्यादा कमाकर अकेले रहने वाले लोगों की तुलना में ज्यादा सुखी हैं। 

गौरतलब है कि ऐसा अक्सर देखा जाता है कि शादी के बाद लोगों की जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं जिससे लोगों के व्यवहार में काफी बदलाव आ जाता है और वे अवसाद या डिप्रेशन के शिकार कम होते हैं। अमेरिका में 22 से लेकर 80 साल के करीब 3 हजार लोगों पर किए गए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है।  इस सर्वेक्षण में सामाजिक , मनोवैज्ञानिक , मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य विषय शामिल हैं।  शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि विदेशों की तुलना में भारत में रहने वाले ऐसे लोग ज्यादा सुखी जीवन व्यतीत करते हैं। 


ये भी पढ़ें - दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

हालांकि अमेरिका में जॉर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक अधिक कमाई वाले जोड़ों के लिए शादी से उसी तरह के मानसिक स्वास्थ्य लाभ नहीं दिखते है। जर्नल सोशल साइंस रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन में यह बात कही गयी है।

Todays Beets: