Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

शादीशुदा लोग डिप्रेशन का कम होते हैं शिकार, शोध में हुआ खुलासा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शादीशुदा लोग डिप्रेशन का कम होते हैं शिकार, शोध में हुआ खुलासा

नई दिल्ली।  यह कहावत तो हम सभी ने सुनी होगी कि ‘शादी का लडडू जो खाए वह भी पछताए और जो न खाए वह भी पछताए’। क्या आपको पता है कि शादी कर गृहस्थ जीवन बिताने वाले लोग अवसाद या डिप्रेशन के शिकार कम होते हैं। अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का पता चला है कि ऐसे लोग जो सालाना 60 हजार अमेरिकी डाॅलर कमाते हैं और पत्नी के साथ रहते हैं वे इससे ज्यादा कमाकर अकेले रहने वाले लोगों की तुलना में ज्यादा सुखी हैं। 

गौरतलब है कि ऐसा अक्सर देखा जाता है कि शादी के बाद लोगों की जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं जिससे लोगों के व्यवहार में काफी बदलाव आ जाता है और वे अवसाद या डिप्रेशन के शिकार कम होते हैं। अमेरिका में 22 से लेकर 80 साल के करीब 3 हजार लोगों पर किए गए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है।  इस सर्वेक्षण में सामाजिक , मनोवैज्ञानिक , मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य विषय शामिल हैं।  शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि विदेशों की तुलना में भारत में रहने वाले ऐसे लोग ज्यादा सुखी जीवन व्यतीत करते हैं। 


ये भी पढ़ें - दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

हालांकि अमेरिका में जॉर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक अधिक कमाई वाले जोड़ों के लिए शादी से उसी तरह के मानसिक स्वास्थ्य लाभ नहीं दिखते है। जर्नल सोशल साइंस रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन में यह बात कही गयी है।

Todays Beets: