Tuesday, September 25, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

किडनी की बीमारी के इलाज में इस्तेमाल होने वाले स्टेरॉयड से बढ़ता है संक्रमण का खतरा 

अंग्वाल संवाददाता
किडनी की बीमारी के इलाज में इस्तेमाल होने वाले स्टेरॉयड से बढ़ता है संक्रमण का खतरा 

नई दिल्ली। भारत में गुर्दे के इलाज में बहुत बड़ी मात्रा में प्रयोग होने वाली स्टेरॉयड से मरीजों में संक्रमण का खतरा काफी हद तक बढ़ने की संभावना होती है। ऐसा दावा करते हुए एक अध्ययन में इलाज के तरीकों को बदलने का सुझाव दिया गया है। जॉर्ज इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ द्वारा किए गए इस अध्ययन के मुताबिक, मिथाइलप्रेडनिसोलोन की गोलियों से किया जा रहा इलाज विभिन्न प्रकार के प्रतिकूल प्रभावों के खतरे से जुड़ा हुआ है। इसके चलते संक्रमण, गैस्ट्रिक संबंधी परेशानियां और हड्डियों से जुड़ी दिक्कतें इत्यादि होती हैं। खास तौर पर यह दिक्कतें आईजीए नेफ्रोपैथी और जिनको यूरिन में ज्यादा प्रोटीन आता है, उनसे जुड़ी हुई हैं।

यह भी देखें- इन फूड को एक साथ खाना पड़ सकता है भारी, सेहत पर बन सकता है जानलेवा खतरा   

 

 


असल में जब व्यक्ति के गुर्दे में प्रतिजैविक इम्युनोग्लोबुलिन ए (आईजीए) जमा हो जाता है, तब उसे आईजीए नेफ्रोपैथी नामक बीमारी हो जाती है। जीआईजीएस इंडिया के निदेशक विवेकानंद झा ने बताया कि आईजीए नेफ्रोपैथी वाले लोगों में करीब 30 लोगों को गुर्दे की गंभीर समस्याएं हो जाती हैं।  

 

यह भी देखें- इयरफोन से गाने सुनना लगता है अच्छा तो बहरे होने के लिए रहें तैयार, पढ़े पूरी रिपोर्ट

Todays Beets: