Tuesday, May 21, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

बचपन  में तनाव झेलने वाले बच्चें बनते हैं , जल्दी मैच्योर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बचपन  में तनाव झेलने वाले बच्चें बनते हैं , जल्दी मैच्योर

नई दिल्ली । अकसर आप ने देखा होगा कि परेशानी और तनाव में लोगों का व्यवहार चिड़चिड़ा और गुस्सैल हो जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही परेशानी और तनाव बच्चे को जल्दी मैच्योर बनाता है। राडबौड विश्वविद्यालय में बच्चों पर हुए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है ।

यें भी पढ़ें-आपको आ रहा है गुस्सा ! कहीं आप भूखे तो नहीं , पढ़ें पूरी खबर 

शोधकर्ताओं ने अपने शोध में दो तरह के तनाव का अध्ययन किया । शोध में  इस बात का भी पता चला कि तनाव दो तरह के होते हैं। पहला तनाव वह है जो जीवन में घटित घटनाओं के कारण होता है और दूसरा वह होता है जो समाज में हो रही घटनाओं के कारण उत्पन्न होता है ।


यें भी पढ़ें-सेब के सिरके से दूर करें मधुमेह, जानें मोटापा और त्वचा संबंधी रोगों में कैसे मिलेगा फायदा

बता दें कि शोधकर्ताओं ने 5 वर्ष के बच्चों से लेकर 17 वर्ष के किशोरों के वर्ग पर किया जिसमें पाया गया है कि तनाव का सीधा प्रभाव दिमाग के उस भाग  पर पड़ता है जो दिमाग को मैच्योर करने से सीधा जुड़ा होता है। दिमाग का ये भाग समाजिक और भावनात्मक प्रतिक्रिया को व्यक्त करने में काम आता हैं। इसी के साथ शोध में इस बात को भी पता चला हैं कि तनाव न होने से बच्चे में परिपक्वता की क्रिया भी धीमी होती है और ज्यादा तनाव में कई बार असामाजिक तत्व के लक्षण भी दिखने लगते है।   

Todays Beets: