Thursday, January 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

टीबी के टीके से टाइप-1 की डायबिटीज का इलाज है संभव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टीबी के टीके से टाइप-1 की डायबिटीज का इलाज है संभव

न्यूयॉर्क। बीमारियों के इलाज को ढूढ़ने में लगे विशेषज्ञ अब एक ही दवा से अनेक बीमारियों के इलाज करने की कोशिशों में लगे हुए हैं। मैसाच्यूसेट्स जनरल हॉस्पिटल के विशेषज्ञों की टीम टीबी के टीके से टाइप-1 की शुगर का इलाज तलाशने में जुटी थी। विशेषज्ञों का दावा है कि टीवी को दोबारा देने से टाइप-1 की डायबिटीज का प्रकिया पलट जाती है। इसलिए विशेषज्ञ मान रहे है कि यह दवा इस गंभीर बीमारी का इलाज हो सकती है। टाइप-1 डायबिटीज ऑटोइम्यून बीमारी है, जो शरीर को इंसुलिन का उत्पादन करने से रोकती है। इंसुलिन वह हार्मोन है, जो रक्त में मौजूद ग्लूकोज को तोड़ने में शरीर की मदद जिससे हमें ऊर्जा मिलती है। इसे अक्सर शरीर की कोशिकाओं तक पहुंचने की चाबी कहा जाता है। एक बार इस दरवाजे के खुलने पर ग्लूकोज अपना काम करना शुरू कर सकता है और शरीर की कोशिकाएं इसका इस्तेमाल ऊर्जा संबधित जरूरतों के लिए कर सकती हैं। इंसुलिन के बिना शरीर ऊर्जा की कमी पूरी करने के लिए ग्लूकोज का इस्तेमाल कर सकता है।

जब यह हमारे शरीरका रोग प्रतिरोधक तंत्र इंसुलिन का उत्पादन करने वाली कोशिकाओं को संक्रमण समझकर खत्म कर देता है, तो टाइप-1 डायबिटीज की बीमारी हो जाती है।

शोधकर्ता डॉ. डेनीस फॉस्मैन का मानना है कि टीबी का टीका प्रतिरोधक तंत्र को पुन: स्थापित करता है, जिससे टाइप-1 की डायबिटीज होने की वजह समाप्त हो जाती है। अभी यह टीका स्कूल जाने वाले बच्चों को दिया जा रहा है।


टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज में अंतर

सभी तरह की डायबिटीज में ब्लड ग्लूकोज का सतर सामान्य से अधिक होता है। दोनें में अंतर इंसुलिन की कमी से होता है, जिसे एक तरह की चाबी करार दिया जाता है। टाइप-1 डायबिटीज में मरीज के पाचकग्रंथि में इंसुलिन का उत्पादन नहीं होता है, जबकि टाइप-2 डायबिटीज में शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेती हैं। इसलिए ब्लड ग्लूकोज का स्तर सामान्य रखने के लिए काफी मात्रा में इंसुलिन की जरूरत पड़ती है।  

Todays Beets: