Sunday, March 24, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

 मोटापा कम करने के लिए न कराएं सर्जरी, हड्डियां हो सकती हैं कमजोर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 मोटापा कम करने के लिए न कराएं सर्जरी, हड्डियां हो सकती हैं कमजोर

नई दिल्ली। मोटापे को कम करने के लिए लोग सर्जरी कराने से भी पीछे नहीं हटते हैं। एक अध्ययन में दावा किया गया है कि वजन घटाने के लिए कराई जाने वाली सर्जरी हड्डियों को कमजोर कर सकती हैं और इससे फ्रैक्चर होने का खतरा बढ़ जाता है। जर्नल जेबीएमआर प्लस में प्रकाशित एक शोध में कहा गया है कि वजन घटाने के लिए कराई जाने वाली सर्जरी के बाद हड्डियों की संरचना में बदलाव होने लगता है। यह सिलसिला सर्जरी के बाद वजन में स्थिरता आने के बावजूद बंद नहीं होता। गौरतलब है कि सैन फ्रांसिस्को स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की विशेषज्ञ एनी शैफर ने बताया कि चर्बी कम करने के लिए आॅपरेशन कराने के बाद हड्डियों में वसा की मात्रा कम हो जाती है जिससे उसके कमजोर होने की संभावना बढ़ जाती है।      

ये भी पढ़ें - यात्रा के दौरान आती हैं उल्टियां, इन उपायों को अपनाएं, मिलेगा आराम


ज्यादातर अध्ययनों में रौक्स एन वाई गैस्ट्रिक बाइपास सर्जरी के प्रभावों का अध्ययन किया गया है। दुनिया भर में वजन घटाने के लिए यह सर्जरी की प्राथमिकता रही है लेकिन हाल ही में इसकी जगह स्लीव गैस्ट्रेक्टोमी ने ले ली है। फिलहाल हड्डियों पर इस नवीनतम सर्जरी के प्रभावों का पता नहीं चल पाया है।

Todays Beets: