Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

इत्तेफाक - अंत तक सोचने पर मजबूर कर देगा फिल्म का सस्पेंस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इत्तेफाक - अंत तक सोचने पर मजबूर कर देगा फिल्म का सस्पेंस

राजेश खन्ना और नंदा की फिल्म इत्तेफाक के करीब 48 साल बाद एक बार फिर बड़े पर्दे पर शाहरुख़ खान और करण जौहर के प्रोडक्शन में बनी फिल्म इत्तेफाक आई। यूं तो घरेलू बॉक्स ऑफिस पर फिल्म ने धीमी शुरुआत की है लेकिन फिल्म के सस्पेंस को लेकर हो रही चर्चा से अब धीरे-धीरे फिल्म का कलेक्शन जोर पकड़ने लगा है। सिद्धार्थ मल्होत्रा, सोनाक्षी सिन्हा और अक्षय खन्ना स्टारर इत्तेफाक-It Happened One Night ने घरेलू बॉक्स ऑफिस पर 4 करोड़ 5 लाख रूपये से ओपनिंग ली।

असल में फिल्म की कहानी कुछ इस तरह है विक्रम सेठी (सिद्धार्थ मल्होत्रा) नामी राइटर हैं। एक हादसे में विक्रम की पत्नी कैथरीन सेठी की मौत हो जाती है। इसी दिन माया (सोनाक्षी सिन्हा) के पति एडवोकेट शेखर सिन्हा की भी हत्या हो जाती है। पुलिस की जांच के दौरान कैथरीन की मौत शक की दायरे में आती है। दोनों केसों की जांच कर रहे इंस्पेक्टर देव (अक्षय खन्ना) को लगता है कि इन हत्याओं के पीछे विक्रम सेठी का हाथ है। विक्रम रात को हुए एक्सिडेंट के बाद माया के घर मदद मांगने गया था। एडवोकेट शेखर सिन्हा के मर्डर में शक माया सिन्हा पर भी है। इंस्पेक्टर देव अब विक्रम और माया को अपनी बात कहने का मौका देता है। देव के जेहन में एक ही सवाल है कि कातिल का मकसद क्या है?


यंग डायरेक्टर अभय चोपड़ा ने इस मिस्ट्री को असरदार ढंग से पेश किया है। आप लास्ट तक जान नहीं पाते कि हत्यारा कौन है? करीब पौने 2 घंटे की फिल्म आापको बांधे रखती है। अभय ने कहानी को कुछ इस एंगल से पर्दे पर उतारा है कि दर्शक हत्यारे का अंदाजा लगाते रहते हैं। फिल्म ढिशूम के बाद से अक्षय खन्ना ने अपना स्टाइल बदला है। उनकी एक्टिंग गजब की है। सिदार्थ मल्होत्रा ने अपने रोल को कुछ अलग ढंग से पेश करने की अच्छी कोशिश की है। सोनाक्षी सिन्हा ने अपने किरदार को बस निभा भर दिया है।

अक्षय खन्ना की शानदार एक्टिंग और डायरेक्टर की कहानी पर पकड़ फिल्म की यूएसपी है। अगर आपको सस्पेंस थ्रिलर फिल्में पंसद हैं तो इत्तेफाक आपको निराश नहीं करेगी।

सिद्धार्थ मल्होत्रा के लिए ये कोई अच्छी शुरुआत नहीं है। उनकी पिछली फिल्म अ जेंटलमैन ने भी पहले दिन चार करोड़ चार लाख रूपये का कलेक्शन किया था जबकि बार बार देखो को छह करोड़ 41 लाख रूपये मिले थे। हालांकि सोनाक्षी सिन्हा को फ़ायदा हुआ है जिनकी पिछली फिल्म नूर ने एक करोड़ 54 लाख रूपये की ओपनिंग ली थी लेकिन अकीरा का कलेक्शन पांच करोड़ 15 लाख रूपये था। करीब 30 करोड़ रूपये में बनी और 1800 स्क्रीन्स में रिलीज़ हुई इत्तेफ़ाक का निर्देशन अभय चोपड़ा ने किया है। उनके दादा बी आर चोपड़ा ने पहली इत्तेफ़ाक प्रोड्यूस की थी और यश चोपड़ा ने निर्देशन।

 

Todays Beets: