Monday, June 17, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

अनुपम खेर ने एफटीआईआई का अध्यक्ष पद छोड़ा, व्यस्तताओं का दिया हवाला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अनुपम खेर ने एफटीआईआई का अध्यक्ष पद छोड़ा, व्यस्तताओं का दिया हवाला

नई दिल्ली। मशहूर फिल्म अभिनेता अनुपम खेर से एफटीआईआई के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा बुधवार को इस्तीफा दे दिया। खेर ने इस्तीफा के देने की वजह अपनी व्यवस्तताओं के चलते संस्था को समय नहीं दे पाना बताया है। गौर करने वाली बात है कि अनुपम खेर को अक्टूबर 2017 में फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) का चेयरमैन नियुक्त किया गया था। अनुपम खेर ने जून 2015 में एनडीए सरकार द्वारा नियुक्त गजेंद्र चौहान की जगह ली थी।

गौरतलब है कि अभिनेता अनुपम खेर इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ की शूटिंग में व्यस्त हैं। इस फिल्म में वे पूर्व प्रधनानमंत्री डाॅक्टर मनमोहन सिंह की भूमिका अदा कर रहे हैं। पिछले दिनों अनुपम खेर ने कहा था कि इतिहास कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह को गलत नहीं समझेगा। 


ये भी पढ़ें - #METOO अभियान - आलोकनाथ की ऑनस्क्रीन 'बहु' रेणुका शहाणे ने लगाए 'ससुरजी' पर आरोप, कहा- फिल्म ...

यहां बता दें कि गजेन्द्र चौहान के कार्यकाल के दौरान एफटीआईआई काफी विवादों से घिरा रहा था। चौहान की नियुक्ति को लेकर एफटीआईआई कैंपस में छात्रों ने भी 3 महीने से ज्यादा समय तक प्रदर्शन किया था लेकिन एनडीए सरकार ने उन्हें हटाने से इंकार कर दिया था। छात्रों ने उस समय पुणे से लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर तक विरोध प्रदर्शन किया था। फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने भी गजेन्द्र की योग्यता पर सवाल उठाए थे।  

Todays Beets: