Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

एक बार फिर से कांग्रेस-भाजपा में मच सकता है घमासान, ‘द एक्सीडेंट प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर हुआ रिलीज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक बार फिर से कांग्रेस-भाजपा में मच सकता है घमासान, ‘द एक्सीडेंट प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर हुआ रिलीज

नई दिल्ली। राज्यों में चुनाव प्रचार का शोर थमने के बाद कांग्रेस और भाजपा के बीच एक बार फिर से घमासान हो सकता है। चुनाव की वजह से अटकी अभिनेता अनुपम खेर की फिल्म ‘द एक्सीडेंट प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है और बड़ी बात यह है कि सेंसर बोर्ड ने इसे पास भी कर दिया है। हालांकि सेंसर बोर्ड ने फिल्म के ट्रेलर से आपत्तिजनक सीन को हटा दिया है। ऐसा कहा जा रहा था कि चुनावों के दौरान फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने से राजनीतिक घमासान छिड़ सकता है।

गौर करने वाली बात है कि ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ इसी नाम की किताब पर आधारित है। सेंसर बोर्ड ने फिल्म यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की क्लिपिंग तो हटवा दी लेकिन सोनिया और राहुल गांधी से मिलती-जुलती शक्लों वाले कलाकारों के साथ इसके ट्रेलर को रिलीज कर दिया है। ट्रेलर में इन कलाकारों के ऊपर स्क्रीन पर अलग से इनके नाम लिखकर लगाए गए हैं ताकि दर्शक गौर से इन चेहरों को पहचान लें।

ये भी पढ़ें - फिल्म ZERO में शाहरुख-सलमान दिखेंगे साथ में थिरकते, जनता को दीवाना बना देने का दावा

यहां बता दें कि फिल्म जिस किताब पर आधारित है उनसे निर्माता निर्देशकों ने अनापत्ति प्रमाण-पत्र नहीं लिया गया है। आपको बता दें कि काॅपीराइट कानून के तहत किसी जीवित या मृत व्यक्ति की जीवनी पर फिल्म बनाने से पहले उससे या उसके संबंधियों से अनुमति लेना जरूरी है।


आपको बता दें कि फिल्म के निर्देशक विजय रत्नाकर गुट्टे जीएसटी फ्रॉड के एक बड़े मामले में पहले भी गिरफ्तार हो चुके हैं। इसके अलावा फिल्म के प्रोड्यूसर सुनील बोरा पर भी धोखाधड़ी मामले में मुकदमा चलते रहे हैं। गौर करने वाली बात है कि फिल्म के एक प्रोड्यूसर अशोक पंडित भी हैं और से टीवी चैनलों पर भाजपा का समर्थन करते हुए नजर आते हैं। फिल्म का विरोध की आशंका इसी बात से जताई जा रही है। सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष पहलाज निहलानी ने निर्माता से सार्वजनिक तौर पर कलाकारों से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेने की बात कही थी लेकिन सेंसर बोर्ड बिना इस प्रमाण पत्र के बिना ही फिल्म का ट्रेलर रिलीज कर दिया है। 

आपको बता दें कि फिल्म के निर्माताओं से अपने बचाव और सुरक्षा की दृष्टि से एक दूसरा ट्रेलर भी तैयार कर रखा है। अगर इस पर कोई विवाद होता है तो उस स्थिति में दूसरा ट्रेलर रिलीज कर दिया जाए। 

Todays Beets: