Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल नहीं रहे, मथुरा के अस्पताल में ली अंतिम सांस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल नहीं रहे, मथुरा के अस्पताल में ली अंतिम सांस

नई दिल्ली। मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल का मंगलवार की सुबह देहांत हो गया। बताया जा रहा है कि सीने में दर्द की शिकायत के बाद उन्हें मथुरा के नयति अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में चिकित्सकों ने बताया ने उनके अंगों ने एक-एक कर काम करना बंद कर दिया जिसके बाद उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। विनोद अग्रवाल ने आज सुबह 4 बजे अंतिम सांस ली। दिल्ली में पैदा हुए अग्रवाल काफी छोटी उम्र में ही मुंबई चले गए थे।

गौरतलब है कि परिवार वालों का कहना है कि वृंदावन स्थित आवास पर रविवार को उनकी अचानक तबीयत बिगड़ गई थी। रविवार की सुबह सीने में दर्द की शिकायत पर उन्हें नयति अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके बाद से उनका इलाज वहीं पर चल रहा था। विनोद अग्रवाल के देश-विदेश में 1500 से अधिक लाइव कार्यक्रम हो चुके हैं। उन्होंने ब्रिटेन, इटली, सिंगापुर, स्विटजरलैंड, फ्रांस, कनाडा, जर्मनी, आयरलैंड, दुबई समेत कई देशों में सफल कार्यक्रम किए।


ये भी पढ़ें - अनुपम खेर ने एफटीआईआई का अध्यक्ष पद छोड़ा, व्यस्तताओं का दिया हवाला

यहां बता दें कि विनोद अग्रवाल का जन्म 6 जून 1955 को दिल्ली मंे हुआ था। माता-पिता की कृष्ण और राधा में अटूट विश्वास का ही नतीजा था कि विनोद अग्रवाल ने भी बेहतरीन भजन गाए। 1962 में माता-पिता और भाई-बहनों के साथ वो दिल्ली से मुंबई चले गए। महज 12 वर्ष की आयु में उन्होंने भजन गायन और हार्मोनियम बजाना सीख लिया। उनके भजन देश में ही नहीं विदेशों में भी सुने  जाते हैं। 

Todays Beets: