Sunday, February 25, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

कंगना रनौत ने 'ओपन लेटर' लिख सैफ अली खान को दिया ऐसे जवाब...

अंग्वाल संवाददाता
कंगना रनौत ने

नई दिल्ली। बॉलीवुड की 'क्वीन' कंगना रनौत के 'नेपोटिज्म' वाले बयान को लेकर पिछले दिनों iifa awards शो के दौरान करण जौहर, सैफ अली खान और वरूण धवन ने जमकर मजाक उड़ाया था।  इसके बाद से ही सोशल मीडिया पर लोगों के इसके खिलाफ आपत्ति जताना शुरू कर दिया था। इसे देखते हुए वरूण धवन और करण जौहर ने उनसे मांफी भी मांगी थी । इसके बाद भी कंगना चुप रही और इस मामले पर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। हालांकि मुद्दे पर सैफ अली खान ने कंगना को संबोधित करते हुए एक ओपन लेटर लिखा। इसके बाद अब कगना ने भी एक 'ओपन लेटर' लिख कैफ के नेपोटिज्म वाले बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। 

कंगना ने अपने इस ओपन लेटर में लिखा है कि सैफ के लिखे हुए लैटर से मैं काफी परेशान हुई। आखिरी बार मुझे इस ब्लॉग ने हैरान कर दिया था जो करण जौहर ने 'नेपोटिज्म' पर लिखा था। साथ ही उन्होंने अपने लेटर में लिखा कि बहुत बार निष्पक्षता और तर्क को अनदेखा कर दिया जाता है। इसके अलावा कंगना ने अपने लेटर में  'नेपोटिज्म' पर बात करते हुए विवेकानंद, आइंस्टाइन, शेक्सपियर जैसी बड़ी सामाजिक हस्तियों के तर्को का भी उदाहरण दिया है। 

कंगना ने लेटर में सैफ के द्वारा 'जीन' और 'यूजेनिक'  वाले तर्क पर भी सवाल उठाते हुए लिखा कि अगर ऐसा होता तो हमारे बीच विवेकानंद, आइंस्टाइन, शेक्शपियर होते और वो एक किसान ही होती। वो कभी भी एक्टिंग जैसे करियर के बारे में न सोचती और न ही इस फील्ड में कभी काम करती। 


बता दें कि कंगना ने यह 'ओपन लेटर' 'मिड-डे' अखबार के लिए लिखा है। कंगना के लिख ओपन लेटर को पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें। 

http://www.mid-day.com/articles/kangana-ranaut-reply-farmer-comment-saif-ali-khan-karan-johar-varun-dhawan-dig-iifa-awards-2017/18443159

Todays Beets: