Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

महाराष्ट्र में सरकारी सेवा आज से ठप, 17 लाख कर्मचारी गए हड़ताल पर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
महाराष्ट्र में सरकारी सेवा आज से ठप, 17 लाख कर्मचारी गए हड़ताल पर

मुंबई। महाराष्ट्र की देवेन्द्र फड़णवीस सरकार की मुश्किलें कम नहीं हो रहीं हैं। मराठा आरक्षण आंदोलन के बाद अब करीब 17 लाख सरकारी कर्मचारियों ने मंगलवार से 3 दिनों के लिए हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है। महाराष्ट्र राज्य कर्मचारी संगठन (एमएसईओ) के अध्यक्ष मिलिंद सरदेशमुख ने कहा कि तालुका स्तर तक के सभी कर्मचारी हड़ताल में शामिल होंगे। बताया जा रहा है कि ये कर्मचारी सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू करने और सरकारी कार्यालयों में सप्ताह में 5 दिनों का कार्यदिवस करने सहित अन्य मांगों के समर्थन में हड़ताल पर जा रहे हैं। 

गौरतलब है कि हड़ताल में शैक्षणिक और चिकित्सा संस्थानों एवं अन्य विभागों के कर्मचारी शामिल हो रहे हैं। इन कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से मुख्यालय, मंत्रालय, कलेक्ट्रेट, तहसील और तालुका स्तर के सभी सरकारी कार्यालयों में कामकाज प्रभावित हो सकता है। यही नहीं शिक्षा और चिकित्सा जैसे क्षेत्रों के भी प्रभावित होने की संभावना है। 

ये भी पढ़ें -जम्मू पुलिस ने दिल्ली को दहलाने की साजिश को किया नाकाम, आतंकी को 8 ग्रेनेड के साथ किया गिरफ्तार 


यहां बता दें कि 17 लाख सरकारी कर्मचारियों के साथ महाराष्ट्र राज्य राजपत्रित अधिकारी परिसंघ भी हड़ताल में शामिल होगा, क्योंकि उन्हें इस बात की उम्मीद है कि उनकी मांगें पूरी होंगी। इन लोगों ने फड़णवीस सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें सिर्फ आश्वासन दिया जा रहा है। खबरों के अनुसार अगर महाराष्ट्र सरकार इनकी मांगें मान लेती है तो उस पर करीब 21 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। 

 

Todays Beets: