Sunday, March 24, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

महाराष्ट्र सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ऋणमाफी की मांग कर रहे 30 हजार किसान पहुंचे ठाणे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
महाराष्ट्र सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ऋणमाफी की मांग कर रहे 30 हजार किसान पहुंचे ठाणे

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में किसानों ने सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। ऋणमाफी के लिए ऑल इंडिया किसान सभा (एआईकेएस) के नेतृत्व में करीब 30,000 किसान विरोध प्रदर्शन करते हुए शुक्रवार को ठाणे पहुंच गए हैं। विरोध रहे किसान लगातार आग बढ़ रहे हैं और मुंबई से कुछ ही दूरी पर हैं। बता दें कि ये किसान ऋणमाफी की मांग को लेकर ये हर दिन 30 किलोमीटर की यात्रा कर रहे हैं, उनका लक्ष्य 12 मार्च को मुंबई में विधानसभा का घेराव करना है।

 

गौरतलब है कि किसानों की यह 180 किलोमीटर लंबी यात्रा 5 मार्च को सेंट्रल नासिक के सीबीएस चौक से हुई थी। राज्य के किसान पूरी तरह से ऋण और बिजली के बिलों को माफ करने की मांग कर रहे हैं। गौर करने वाली बात है कि महाराष्ट्र सरकार ने पिछले साल ऋणमाफी योजना के प्रथम चरण के तहत 4,000 करोड़ रुपए के ऋण की माफी की घोषणा की थी। 


ये भी पढ़ें - Live: इंडिया टुडे काॅनक्लेव में सोनिया ने भाजपा पर बोला तीखा हमला, कहा-क्या भाजपा से पहले देश...

आपको बता दें कि ऑल इंडिया किसान सभा की मांग है कि सरकार सुपर हाईवे और बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए केंद्र सरकार किसानों की जमीन पर अधिग्रहण न करें। ऑल इंडिया किसान सभा के नेता ने कहा कि वे सरकार का ध्यान लगातार इस ओर खींचना चाहते थे लेकिन अनदेखी की वजह से उन्हें मार्च निकालने पर मजबूर होना पड़ा है।  

 

Todays Beets: