Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

देश की 400 बोलियों है अगले पचास सालों मे लुप्त होने की कगार पर, पढ़े पूरी रिपोर्ट...

अंग्वाल संवाददाता
देश की 400 बोलियों है अगले पचास सालों मे लुप्त होने की कगार पर, पढ़े पूरी रिपोर्ट...

नई दिल्ली। क सर्वेक्षण में यह बात समाने आई है कि अगले पचास सालों में भारत में रहने वाले 1 अरब तीस करोड़ लोगों के द्वारा बोली जाने वाली 780 बोलियां में  करीब 400 बोलियां लुप्त हो जाएंगी। पीप्लुस लिंग्विस्टक सर्व ऑफ इंडिया के सर्वेक्षण ने इससे संबंधित तथ्य सामने रखे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया भर में करीब 6000 बोलियां बोली जाती है, जिनमें से 4000 बोलियों की भविष्य में लुप्त हो जाएंगी। इतना ही नहीं बल्कि अंग्रेजी कई सशक्त भाषाओं हिन्दी, बांग्ला, मराठी, तेलुगू, मलायलम, कन्नड़, गुजराती और पंजाबी के लिए मुश्किल पैदा कर रही है। हालांकि यह बोली सदियों पुरानी हैं, लेकिन मौजूदा समय में इनमें नए शब्दों का आना कम हुआ है। पीएलएसआई के चैयरमैन गणेश एन. डेवी ने कहा कि जब कोई बोली खत्म होती है तो उसके साथ संस्कृति भी खत्म हो जाती है। भारत में पिछले पांच दशकों में 250 बोलियां समाप्त हो चुकी हैं।

यह भी पढ़े- दिखने में लग रही थी गर्भवती, डॉक्टरों ने जब किया आॅपरेशन, तो उड़ गए होश

रिपोर्ट में बताया गया है कि उन बोलियों को है जो अदिवासी समुदायों से जुड़ी हैं। डेवी के मुताबिक, कुछ बोलियां ऐसी हैं कि जो एक हजार साल से भी अधिक पुरानी हैं। इनमें मैथिली प्रमुख है,लेकिन मैथिली की तरक्की कमजोर हुई है।

यह भी पढ़े- महाराजा का दर्जा न मिलने पर डेनमार्क के खफा प्रिंस हेनरिक ने किया यह बड़ा ऐलान

तेजी से बढ़ रही है भोजपुरी


कुछ भारतीय बोलियां ऐसी है जो तेजी से बढ़ रही हैं। इसमें सबसे अव्वल भोजपुरी है। गणेश डेवी का कहना है कि भोजपुरी का दबदबा बरकरार रहने की वजह इस बोली को बोलने वालों को बढ़ावा देना है। इस बोली से उद्यमिता बढ़ी है।

यह भी पढ़े- अध्ययन में सामने आया कार्यस्थल के बेहतर माहौल के लिए भरोसा सबसे जरुरी है

मुंबई में 300 बोलियां चलन में

रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई में बोलियों की विविधता बढ़ी है। यहां पर तीन सौ के करीब बोलियां बोली जाती हैं,जिसमें से गुजरात की 40, महाराष्ट्र की 52 और 14 कर्नाटक की बोलियां शामिल है। यहां पर भी भोजपुरी बोलने वाले सबसे अधिक लोग है।  

 

Todays Beets: