Tuesday, August 22, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

देश की 400 बोलियों है अगले पचास सालों मे लुप्त होने की कगार पर, पढ़े पूरी रिपोर्ट...

अंग्वाल संवाददाता
देश की 400 बोलियों है अगले पचास सालों मे लुप्त होने की कगार पर, पढ़े पूरी रिपोर्ट...

नई दिल्ली। क सर्वेक्षण में यह बात समाने आई है कि अगले पचास सालों में भारत में रहने वाले 1 अरब तीस करोड़ लोगों के द्वारा बोली जाने वाली 780 बोलियां में  करीब 400 बोलियां लुप्त हो जाएंगी। पीप्लुस लिंग्विस्टक सर्व ऑफ इंडिया के सर्वेक्षण ने इससे संबंधित तथ्य सामने रखे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया भर में करीब 6000 बोलियां बोली जाती है, जिनमें से 4000 बोलियों की भविष्य में लुप्त हो जाएंगी। इतना ही नहीं बल्कि अंग्रेजी कई सशक्त भाषाओं हिन्दी, बांग्ला, मराठी, तेलुगू, मलायलम, कन्नड़, गुजराती और पंजाबी के लिए मुश्किल पैदा कर रही है। हालांकि यह बोली सदियों पुरानी हैं, लेकिन मौजूदा समय में इनमें नए शब्दों का आना कम हुआ है। पीएलएसआई के चैयरमैन गणेश एन. डेवी ने कहा कि जब कोई बोली खत्म होती है तो उसके साथ संस्कृति भी खत्म हो जाती है। भारत में पिछले पांच दशकों में 250 बोलियां समाप्त हो चुकी हैं।

यह भी पढ़े- दिखने में लग रही थी गर्भवती, डॉक्टरों ने जब किया आॅपरेशन, तो उड़ गए होश

रिपोर्ट में बताया गया है कि उन बोलियों को है जो अदिवासी समुदायों से जुड़ी हैं। डेवी के मुताबिक, कुछ बोलियां ऐसी हैं कि जो एक हजार साल से भी अधिक पुरानी हैं। इनमें मैथिली प्रमुख है,लेकिन मैथिली की तरक्की कमजोर हुई है।

यह भी पढ़े- महाराजा का दर्जा न मिलने पर डेनमार्क के खफा प्रिंस हेनरिक ने किया यह बड़ा ऐलान

तेजी से बढ़ रही है भोजपुरी


कुछ भारतीय बोलियां ऐसी है जो तेजी से बढ़ रही हैं। इसमें सबसे अव्वल भोजपुरी है। गणेश डेवी का कहना है कि भोजपुरी का दबदबा बरकरार रहने की वजह इस बोली को बोलने वालों को बढ़ावा देना है। इस बोली से उद्यमिता बढ़ी है।

यह भी पढ़े- अध्ययन में सामने आया कार्यस्थल के बेहतर माहौल के लिए भरोसा सबसे जरुरी है

मुंबई में 300 बोलियां चलन में

रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई में बोलियों की विविधता बढ़ी है। यहां पर तीन सौ के करीब बोलियां बोली जाती हैं,जिसमें से गुजरात की 40, महाराष्ट्र की 52 और 14 कर्नाटक की बोलियां शामिल है। यहां पर भी भोजपुरी बोलने वाले सबसे अधिक लोग है।  

 

Todays Beets: