Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

गुजरात चुनाव - दो बार से ज्यादा के विधायकों को टिकट नहीं देगी भाजपा, दिल्ली निकाय चुनावों की तर्ज पर बनाई रणनीति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गुजरात चुनाव - दो बार से ज्यादा के विधायकों को टिकट नहीं देगी भाजपा, दिल्ली निकाय चुनावों की तर्ज पर बनाई रणनीति

अहमदाबाद । भाजपा ने गुजरात चुनावों से पहले एक बड़ा फैसला लिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, भाजपा इस बार अपने दो बार विधायक रह चुके नेताओं को टिकट नहीं देने जा रही है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि भाजपा को सत्ता विरोधी लहर (एंटी इनकंबेंसी) के चलते कोई नुकसान न हो। हालांकि इस दौरान बताया जा रहा है कि गुजरात में युवा और काफी प्रभावशाली नेताओं पर यह नियम लागू नहीं होगा। गुजरात विधानसभा चुनावों के मद्देनजर अपने उम्मीदवारों की सूची जारी करने से ठीक पहले भाजपा ने यह फैसला लेकर विपक्षी दलों को करारा झटका दिया है। 

ये भी पढ़ें- मेरा मुख्य मुद्दा गुजरात में भाजपा को हराना है, आरक्षण नहीं - हार्दिक पटेल

बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनावों में भाजपा किसी भी प्रकार की एंटी इनकंबेंसी यानी सत्ता विरोधी लहर की काट के लिए नया फार्मूला बना रही है। सूत्रों के मुताबिक, भाजपा ने इस बार दो बार से ज्यादा विधायक रहे अपने नेताओं को इस बार चुनाव में टिकट नहीं देने का फैसला लिया है। हालांकि लोकप्रिय और युवा नेताओं को इस फार्मूले से अलग रखा गया है। 


सूत्रों के अनुसार, भाजपा गुजरात में दिल्ली निकाय चुनाव में लागू किए गए अपने फार्मूलों को फिर से आजमाना चाहती है, जिसमें लगातार तीन बार से काबिज भाजपा ने अपने अधिकांश मौजूदा पार्षदों के टिकट काटकर नए उम्मीदवार खड़े किए थे। पार्टी ने इस तरह अपने पार्षदों को लेकर लोगों के गुस्से का काट किया, जिसका साकारात्मक परिणाम भी देखने को मिला था। 

ये भी पढ़ें- केवल शाकाहारी खाना खाने वालों को ही मिलेगा यूनिवर्सिटी में गोल्ड मेडल, सर्कुलर हुआ जारी

खबरें हैं कि इस बार पाटीदार आंदोलन के साथ ही राज्य  में कई तरह के मुद्दों को लेकर कई संगठनों समेत विपक्ष ने भाजपा सरकार पर कई हमले किए हैं। इसके चलते लोगों में सत्ता विरोध लहर भी पैदा हुई है, जिसे खत्म करने के लिए भाजपा ने नया प्लान तैयार किया है। असल में पिछले दिनों सोशल मीडिया पर 'विकास गांडो थयो छे' भी ट्रेंड कर रहा था, जहां लोग राज्य में हुए विकास का मजाक उड़ा रहे थे। राज्य के पाटीदारों में बीजेपी का विरोध मुखर होकर सामने आ रहा है। भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए पाटीदार इलाकों में 'धारा 144 ' लगा दिया गया है। कई पाटीदार इलाकों में इस तरह के बैनर लगाए गए हैं कि 'बीजेपी वाले यहां वोट मांगने न आएं। वहीं प्रचार के लिए पहुंचे भाजपा कार्यकर्ताओं को भगाया जा रहा है, कार्यकर्ताओं का कहना है कि उनके ऊपर अंडे भी फेके गए।

Todays Beets: