Wednesday, September 26, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

लालू को 'भक्ति' दिखाने वाले जालौन के DM-SDM आए सीएम योगी के रड़ार पर, CBI कोर्ट के जज पर दबाव बनाने की होगी जांच 

अंग्वाल संवाददाता
लालू को

लखनऊ । राजद प्रमुख लालू यादव को चारा घोटाले में मिली सजा को कम करने के लिए सीबीआई जज से सिफारिश करने वाले यूपी के जालौन के डीएम डॉ.मन्नान अख्तर के साथ एसडीएम अब सूबे से सीएम योगी आदित्यनाथ के निशाने पर हैं। योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में डीएम डॉ. मन्नान अख्तर व एसडीएम के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। इतना ही नहीं इस मामले में योगी आदित्यनाथ सरकार अपराधी की पैरवी करने पर बिफरी हुई है। शासन ने इन आला अधिकारियों को तलब किया है। साथ ही दिल्ली से भी आला कमान ने चीफ सेक्रेटरी से भी उनकी रिपोर्ट मांगी है। इसके बाद से शासन में हड़कंप मचा हुआ है। सीएम के इस आदेश के बाद झांसी के कमिश्नर अमित गुप्ता ने डीएम डॉ मन्नान अख्तर और एसडीएम भैरपाल सिंह के खिलाफ जांच शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें- एमपी ने दुष्कर्मी नहीं डर रहे फांसी की सजा से, टीकमगढ़ में नाबालिग से 4 दबंगों ने किया गैंगरेप

बता दें कि चारा घोटाले के आरोप लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिए जाने के बाद रांची में सीबीआई की विशेष अदालत के जज ने कहा था कि लालू के कई चाहने वाले उन्हें फोन कर रहे हैं और कई तरह की बातें भी पूछ रहे हैं। बाद में खुलासा हुआ कि मन्नान अख्तर जालौन से लालू प्रसाद यादव को बचाने के लिए दबाव बना रहे थे। जज ने लालू प्रसाद यादव को सजा सुनाने के दौरान सिफारिशी फोन आने का जिक्र भी किया था, लेकिन उन्होंने किसी का नाम लिया था। हालांकि इस सब के बाद न्यायधीश शिवपाल सिंह ने लालू यादव को साढ़े तीन साल कैद की सजा सुनाई है। इस सब के बाद खुलासा हुआ था कि यूपी के जालौन के डीएम और एसडीएम ने भी जज शिवपाल को फोन कर लालू की सजा के संबंध में सिफारिश की थी। 

ये भी पढ़ें- बुखार से पीड़ित गर्भवती का 22 दिन इलाज, न बच्चा बचा न मां, अस्पताल ने पीड़ित परिजनों को सौंपा...


फिलहाल चारा घोटाले के आरोप में रांची की जेल में बंद लालू यादव के पक्ष में पैरवी करने के मामले में जालौन के डीएम डॉ.मन्नान अख्तर के साथ एसडीएम अब सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ के रडार पर हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में जालौन के डीएम डॉ. मन्नान अख्तर व एसडीएम के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। 

ये भी पढ़ें- पीडीपी के विधायक ने मारे जाने वाले आतंकियों को बताया भाई, विधानसभा में जमकर हंगामा

सूत्रों का कहना है कि सीबीआई के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह को 23 दिसंबर, 2017 को फोन कर बताया कि आप ही लालू का केस देख रहे हैं, जरा देख लीजिएगा। दिलचस्प तथ्य यह है कि जिस कलेक्टर ने शिवपाल सिंह को झारखंड में कानून पढ़कर आने की नसीहत दी थी, उन्होंने ही फोन कर लालू को बचाने की सिफारिश जज से की। इतना ही नहीं एसडीएम भैरपाल सिंह ने भी सिफारिश के लिए संपर्क साधा।

ये भी पढ़ें- साउथ एक्सटेंशन में गुटखा निर्माता के घर आयकर विभाग का छापा, 61 करोड़ की संपत्ति जब्त

Todays Beets: