Wednesday, January 17, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

लालू यादव को सजा से बचाने के लिए इन DM, SDM ने भी जज शिवपाल सिंह से फोन पर की थी सिफारिश 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लालू यादव को सजा से बचाने के लिए इन DM, SDM ने भी जज शिवपाल सिंह से फोन पर की थी सिफारिश 

रांची । राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के तहत देवघर कोषागार से अवैध निकासी में मामले में साढ़े तीन साल की सजा सुनाने वाले सीबीआई की विशेष अदालत के जज शिवपाल सिंह ने पिछले दिनों खुलासा किया था कि लालू को बरी किए जाने के संबंध में कुछ लोगों ने उनसे सिफारिश की थी। अब सामने आया है कि लालू के लिए रहम की गुहार लगाने वालों में यूपी के जालौन जिले के डीएम भी शामिल थे। इसके साथ ही जिले के कई आला अधिकारियों ने भी उन्हें फोन कर लालू को बरी करने की सिफारिश की थी। हालांकि ये वही डीएम साहब हैं जो कुछ समय पहले न्यायधीश शिवपाल सिंह की जमीन पर हुए कब्जे को हटाने के लिए कार्रवाई किए जाने के मद्देनजर जज को काफी तरसा चुके हैं। इतना ही  नहीं इन डीएम साहब ने तो कुछ समय पूर्व न्याय मांगने पर जज शिवपाल सिंह को ही कानून का ज्ञान हासिल करने की नसीहत देने डाली थी। 

ये भी पढ़ें- बिहार के रोहतास में सेना भर्ती के दौरान मची भगदड़, 1 की मौत, 5 गंभीर रूप से घायल

जज की जमीन पर हो चुका है कब्जा

बता दें कि रांची में सीबीआइ की विशेष अदालत के जज शिवपाल सिंह मूल रूप से यूपी के जालौन जिले के शेखपुर खुर्द गांव के निवासी हैं। कुछ समय पहले गांव में कुछ लोगों ने उनकी जमीन पर कब्जा कर लिया। जब जज के परिवार की ओर से विरोध दर् करवाया गया तो उल्टा उनके भाई सुरेंद्र पाल सिंह के खिलाफ ही मुकदमा दर्ज करा दिया गया। इतना ही नहीं दबंग लोगों ने जज शिवपाल सिंह की जमीन पर खेती करवाना शुरू कर दिया और जबरन जमीन से चक रोड निकाल दी।

ये भी पढ़ें- केन्द्रीय विद्यालयों में हिन्दी में प्रार्थना को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर हुई जनहित याचिका, कोर्ट ने सरकार और केवी संगठन को भेजा नोटिस

जालौन के डीएम से मांगी थी मदद

ऐसी स्थिति आने पर जज शिवपाल सिंह ने खुद इलाके के जिलाधिकारी से मदद मांगी थी लेकिन इस कब्जे को लेकर उनकी ओर से कोई मदद नहीं मिली। 6 नवंबर, 2015 को वहां के तत्कालीन एसडीएम ने जमीन को मुक्त कराने का निर्देश दिया था, जिसके बाद बीडीओ और ग्राम प्रधान की उपस्थिति में पत्थर लगवाए गए, लेकिन दबंगों ने उसे भी उखाड़ फेंका। इसके बावजूद एसडीएम, तहसीलदार, सीओ और कोतवाल ने कोई कार्रवाई नहीं की तो जज शिवपाल सिंह ने डीएम से मदद मांगी, लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिला। इसके बाद 12 दिसंबर, 2017 को डीएम और एसपी से शिकायत की तो डीएम ने कहा कि आप झारखंड में जज हैं न, आप कानून पढ़कर आएं। उन्होंने यह भी कहा कि वे एसडीएम के आदेश को नहीं मानेंगे।


ये भी पढ़ें- केन्द्रीय विद्यालयों में हिन्दी में प्रार्थना को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर हुई जनहित याचिका, कोर्ट ने सरकार और केवी संगठन को भेजा नोटिस

लालू की इन अधिकारियों ने की सिफारिश

सूत्रों के अनुसार, अब जब लालू चारा घोटाले में घिरे तो उन्हें बचाने के लिए जालौन के डीएम व एसडीएम ने सिफारिश की। जज को फोन करने वाले डीएम का नाम डॉ. मन्नान अख्तर है। एसडीएम भैरपाल सिंह ने भी सिफारिश के लिए संपर्क साधा। हालांकि जज ने किसी की सिफारिश या दबाव पर ध्यान नहीं दिया। 

ये भी पढ़ें- मदरसों की मान्यता खत्म करने वाले रिजवी के बयान पर ओवैसी का वार, कहा- रिजवी ने आत्मा आरएसएस को बेच दी

डीएम ने खारिज किए आरोप

वहीं इस पूरे मामले में डीएम, जालौन डॉ. मन्नान अख्तर का कहना है कि दोनों मामलों में उन्होंने किसी तरह की सिफारिश नहीं की है। उन्होंने कहा कि किसी भी वरिष्ठ और न्यायायिक अधिकारी से मैं इस तरह की सिफारिश क्यों करूंगा। वहीं एसडीएम, जालौन भैरपाल सिंह का कहना है कि दीपावली से पहले जब वह अपने घर आए थे तभी मुलाकात और बात हुई थी। उनसे केवल खेत के संबंध में ही बात की गई। इसके अलावा कोई और बात नहीं हुई है।

Todays Beets: