Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

जीएसटी के बावजूद मुनाफाखोरी करने वालों पर कसेगा शिकंजा, सरकार ने बनाई ये रणनीति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसटी के बावजूद मुनाफाखोरी करने वालों पर कसेगा शिकंजा, सरकार ने बनाई ये रणनीति

नई दिल्ली । गुड्स सर्विस टैक्स यानी जीएसटी की दरों में हाल में जीएसटी परिषद ने काफी कटौती की है। हाल में 200 से ज्यादा उत्पादों के दाम घटाने के बाद अब परिषद उन मुनाफाखोरों पर शिकंजा करने की रणनीति बना बैठी है, जो ग्राहकों तक इस मुनाफे को नहीं पहुंचने देते। मोदी सरकार दिसंबर में इससे संबंधित गाइडलाइन जारी कर सकती है। इस गाइड लाइन के जरिए सरकार उन कारोबारियों के खिलाफ कार्रवाई करेगी जो इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा ग्राहकों तक नहीं पहुंचाते हैं। 

ये भी पढ़ें- टल गया राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना, अब गुजरात-हिमाचल विधानसभा के नतीजे तय करेंगे राजनीतिक करियर

मुनाफाखोरी रोधी नियम बनाने की तैयारी

बता दें कि जीएसटी परिषद ने हाल में अपनी बैठक में जीएसटी की दरों में कटौती की है। इसकी मदद से करीब 200 से ज्यादा उत्पादों के दाम कर हुए हैं, लेकिन कुछ मुनाफाखोर सरकार की इस मुहिम का लाभ आम जनता तक नहीं पहुंचने देते। ऐसे में इन मुनाफाखोरों पर लगाम कसने के लिए सरकार ने 'एंटी-प्रॉफिटियरिंग (मुनाफाखोरी रोधी) नियम बनाने की तैयारी  की है। इसके जरिय उन कारोबारियों के ख‍िलाफ कार्यवाही की जाएगी, जो इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा ग्राहकों को तक नहीं पहुंचाते हैं। 

ये भी पढ़ें- जमीन फर्जीवाड़े में फंसे ‘किंग खान’, खेती वाली जमीन पर बनवाया आलीशान बंगला

आखिर क्या है इनपुट टैक्स क्रेडिट


असल में  जब कोई कारोबारी कच्चा माल व अन्य सामग्री खरीदता है, तो उसे टैक्स भरना पड़ता है। यह इनपुट टैक्स कहलाता है। जीएसटी के तहत इस सामग्री से कोई उत्पाद जब तैयार हो जाता है, तो कारोबारी को इनपुट टैक्स भरने की वजह से टैक्स भरते समय छूट मिलती है। यही इनपुट टैक्स क्रेडिट होता है। लेकिन सरकार की ओर से जिन कारोबारियों को इनपुट टैक्स क्रेडिट मिलता है, उन्हें इसका फायदा अपने ग्राहकों को भी देना होता है। लेकिन कई कारोबारी ऐसा नहीं करते और लाभ अपने पास ही रख लेते हैं। 

ये भी पढ़ें- दुनिया भर के 15 हजार वैज्ञानिक बोले- मानव जाति के अस्तित्व पर खतरा बढ़ा, बचने का अंतिम मौका

कुछ शंकाओं का समाधान अभी बाकि

इस पूरे मामले में कुछ शंकाएं भी हैं, जिनका समाधान करना अभी बाकि है। सवाल उठ रहे हैं कि क्या इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा हर ब्रांड पर आम लोगों तक पहुंचाना संभव भी है या नहीं। हालांकि पिछले दिनों जीएसटी दरों में कटौती के बाद अब परिषद जीएसटी में नए बदलावों की तैयारी कर रही है। इन बदलाव से आम आदमी को और भी राहत मिल सकती है।

ये भी पढ़ें- तेज रफ्तार ट्रेन को रोकते थे 2 रुपये के सिक्के से, बाद में बोगी में चढ़कर लूटपाट करने वाले दो बदमाश गिरफ्तार

Todays Beets: