Wednesday, January 24, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

जीएसटी के बावजूद मुनाफाखोरी करने वालों पर कसेगा शिकंजा, सरकार ने बनाई ये रणनीति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसटी के बावजूद मुनाफाखोरी करने वालों पर कसेगा शिकंजा, सरकार ने बनाई ये रणनीति

नई दिल्ली । गुड्स सर्विस टैक्स यानी जीएसटी की दरों में हाल में जीएसटी परिषद ने काफी कटौती की है। हाल में 200 से ज्यादा उत्पादों के दाम घटाने के बाद अब परिषद उन मुनाफाखोरों पर शिकंजा करने की रणनीति बना बैठी है, जो ग्राहकों तक इस मुनाफे को नहीं पहुंचने देते। मोदी सरकार दिसंबर में इससे संबंधित गाइडलाइन जारी कर सकती है। इस गाइड लाइन के जरिए सरकार उन कारोबारियों के खिलाफ कार्रवाई करेगी जो इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा ग्राहकों तक नहीं पहुंचाते हैं। 

ये भी पढ़ें- टल गया राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना, अब गुजरात-हिमाचल विधानसभा के नतीजे तय करेंगे राजनीतिक करियर

मुनाफाखोरी रोधी नियम बनाने की तैयारी

बता दें कि जीएसटी परिषद ने हाल में अपनी बैठक में जीएसटी की दरों में कटौती की है। इसकी मदद से करीब 200 से ज्यादा उत्पादों के दाम कर हुए हैं, लेकिन कुछ मुनाफाखोर सरकार की इस मुहिम का लाभ आम जनता तक नहीं पहुंचने देते। ऐसे में इन मुनाफाखोरों पर लगाम कसने के लिए सरकार ने 'एंटी-प्रॉफिटियरिंग (मुनाफाखोरी रोधी) नियम बनाने की तैयारी  की है। इसके जरिय उन कारोबारियों के ख‍िलाफ कार्यवाही की जाएगी, जो इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा ग्राहकों को तक नहीं पहुंचाते हैं। 

ये भी पढ़ें- जमीन फर्जीवाड़े में फंसे ‘किंग खान’, खेती वाली जमीन पर बनवाया आलीशान बंगला

आखिर क्या है इनपुट टैक्स क्रेडिट


असल में  जब कोई कारोबारी कच्चा माल व अन्य सामग्री खरीदता है, तो उसे टैक्स भरना पड़ता है। यह इनपुट टैक्स कहलाता है। जीएसटी के तहत इस सामग्री से कोई उत्पाद जब तैयार हो जाता है, तो कारोबारी को इनपुट टैक्स भरने की वजह से टैक्स भरते समय छूट मिलती है। यही इनपुट टैक्स क्रेडिट होता है। लेकिन सरकार की ओर से जिन कारोबारियों को इनपुट टैक्स क्रेडिट मिलता है, उन्हें इसका फायदा अपने ग्राहकों को भी देना होता है। लेकिन कई कारोबारी ऐसा नहीं करते और लाभ अपने पास ही रख लेते हैं। 

ये भी पढ़ें- दुनिया भर के 15 हजार वैज्ञानिक बोले- मानव जाति के अस्तित्व पर खतरा बढ़ा, बचने का अंतिम मौका

कुछ शंकाओं का समाधान अभी बाकि

इस पूरे मामले में कुछ शंकाएं भी हैं, जिनका समाधान करना अभी बाकि है। सवाल उठ रहे हैं कि क्या इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा हर ब्रांड पर आम लोगों तक पहुंचाना संभव भी है या नहीं। हालांकि पिछले दिनों जीएसटी दरों में कटौती के बाद अब परिषद जीएसटी में नए बदलावों की तैयारी कर रही है। इन बदलाव से आम आदमी को और भी राहत मिल सकती है।

ये भी पढ़ें- तेज रफ्तार ट्रेन को रोकते थे 2 रुपये के सिक्के से, बाद में बोगी में चढ़कर लूटपाट करने वाले दो बदमाश गिरफ्तार

Todays Beets: