Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

दिल्ली हाईकोर्ट ने जदयू के पार्टी निशान को लेकर चुनाव आयोग और नीतीश कुमार को नोटिस भेजा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली हाईकोर्ट ने जदयू के पार्टी निशान को लेकर चुनाव आयोग और नीतीश कुमार को नोटिस भेजा

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने गुरुवार को भारतीय चुनाव आयोग (ईसी) और जनता दल (यूनाइटेड) का नेतृत्व कर रहे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एक नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने यह नोटिस शरद यादव गुट वाली जदयू के नव नियुक्त अध्यक्ष के राजशेखरन द्वारा तीर के चिह्न पर उनके दावे को खारिज करने वाले निर्वाचन आयोग के आदेश को चुनौती देते वाली याचिका पर सुनवाई करते जारी किया है। कोर्ट अब इस मामले में 18 फरवरी को सुनवाई करेगी। 

बता दें कि जनता दल (यूनाइटेड) के शरद यादव गुट के नव नियुक्त अध्यक्ष के राजशेखरन ने तीर के चिह्न पर उनके दावे को खारिज करने वाले निर्वाचन आयोग के आदेश को चुनौती देते हुए दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की। राजशेखरन का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ वकील के मौजूद न होने के कारण न्यायमूर्ति इंदरमीत कौर ने सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी थी। गुरुवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने भारतीय चुनाव आयोग और जदयू का नेतृत्व करने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को नोटिस जारी किया है। 

आयोग ने नीतीश गुट की जदयू को असली बताया


बता दें कि शरद यादव ने निर्वाचन आयोग के 25 नवंबर के आदेश को चुनौती दी है, जिसमें आयोग ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गुट को ही असली जदयू करार दिया। इसके साथ ही उसे तीर का चिह्न आवंटित कर दिया गया है। नीतीश द्वारा जुलाई में भाजपा से हाथ मिलाने के बाद शरद यादव नीतीश कुमार से अलग हो गए थे। इसके बाद से ही दोनों के बीच पार्टी पर अधिकार को लेकर ल़़डाई चल रही है। 

निर्वाचन आयोग के फैसले के खिलाफ कोर्ट गए

बता दें कि शरद यादव गुट इससे पहले निर्वाचन आयोग के 17 नवंबर के आदेश के खिलाफ हाई कोर्ट पहुंचा था। इसमें आयोग ने नीतीश कुमार के गुट वाले जद (यू) के पक्ष में फैसला दिया था लेकिन उसने इस फैसले के पीछे के कारण नहीं बताए थे। राजशेखरन ने हाई कोर्ट से चुनाव आयोग के 25 नवंबर के फैसले को रद्द करने की मांग की है।  तीश कुमार गुट ने कोर्ट को बताया कि उनकी पार्टी के सदस्यों ने पहले ही तीर चिह्न के साथ आवेदन किया है, जिसे चुनाव आयोग ने अनुमति दी है।

Todays Beets: