Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

सुप्रीम कोर्ट ने 84 दंगों की जांच के लिए गठित की नई SIT, जस्टिस ढींगरा को बनाया प्रमुख

अंग्वाल न्यूज डेस्क

सुप्रीम कोर्ट ने 84 दंगों की जांच के लिए गठित की नई SIT, जस्टिस ढींगरा को बनाया प्रमुख

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को 84 के सिख विरोधी दंगों के मामलों में बड़ा फैसला लेते हुए एक बार फिर से 186 मामलों की जांच के लिए नई तीन सदस्यीय विशेष जांच दल (SIT) का गठन कर दिया। इस एसआईटी का प्रमुख जस्टिस (रिटायर्ड) एसएन ढींगरा को बनाया गया है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने SIT को अपनी जांच पूरी करने के लिए दो महीनों का समय दिया है। SIT को दो महीनों के भीतर अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को देनी होगी। यह SIT सिख विरोधी दंगों के 186 मामलों की फिर से जांच पड़ताल करेगी। जस्टिस ढींगरा के अलावा इस एसआईटी में दो आईपीएस अधिकारी राजदीप सिंह (रिटायर्ड) और अभिषेक दुलार होंगे। सुप्रीम कोर्ट अब इस मामले में 19 मार्च को अगली सुनवाई करेगी। 


इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सिख विरोधी दंगों के मामले में नए सिरे से SIT गठित करने के आदेश दिए थे। न्यायमूर्ति केपीएस राधाशरण और न्यायमूर्ति जेएम पांचाल की पर्यवेक्षी समिति ने पहली SIT द्वारा की गई जांच पर सुप्रीम कोर्ट को अपनी रिपोर्ट दी थी। कोर्ट के आदेश के बाद SIT के लिए केंद्र सरकार ने बुधवार को कई नाम सुझाए थे, लेकिन कोर्ट ने उन नामों पर सहमति देने से इनकार कर दिया था। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में एक पर्यवेक्षक समिति का गठन किया था, जिसने पहली SIT द्वारा की गई जांच का अवलोकन किया था। पुरानी SIT ने 84 में हुए सिख विरोधी दंगे मामले में दर्ज 294 केस में से 186 को बिना किसी जांच के बंद कर दिया था, जिस पर आपत्ति जाहिर की गई थी। 

Todays Beets: