Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

सुप्रीम कोर्ट ने जजों के रिश्वत मामले की याचिका खारिज की, कहा- एफआईआर में किसी जज का नाम नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने जजों के रिश्वत मामले की याचिका खारिज की, कहा- एफआईआर में किसी जज का नाम नहीं

नई दिल्ली । सुप्रीमकोर्ट ने मंगलवार जजों के रिश्वत वाले केस की जांच एसआईटी से कराने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने मेडिकल कॉलेज को मान्यता देने के लिए जजों के रिश्वत लेने संबधी आरोपों को परेशान करने वाला बताते हुए कहा कि इस मामले में किसी जज का नाम नहीं लिया गया है, न ही एफआईआर में किसी का नाम है। कोर्ट ने कहा कि इस तरह के निराधार आरोपों से न्यायपालिका की प्रतिष्ठा धूमिल हुई है। 

ये भी पढ़ें - रसगुल्ले को लेकर शुरू हुई कानूनी जंग में ओडिशा को हराकर जीता पश्चिम बंगाल, मिला जीआई टैग

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सोमवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने कहा, 'हम भी कानून से ऊपर नहीं हैं और सभी जरूरी प्रक्रियाओं का पालन होना ही चाहिए। इस मामले में कोई एफआईआर सुप्रीम कोर्ट के किसी जज के खिलाफ नहीं दर्ज की गई। सुप्रीम कोर्ट के जजों के खिलाफ निराधार आरोपों की वजह से संस्था के सम्मान को ठेस पहुंची है। यह बहुत अफसोसजनक है कि ऐसे आरोपों के कारण न्यायिक संस्था को बेवजह ही शक के घेरे में रखा गया। 


ये भी पढ़ें - योग पर 'धर्म का ठप्पा' लगाने वालों को तमाचा, सऊदी अरब ने योग को खेल की कैटेगिरी में दी मान्यता 

बता दें कि पिछले सप्ताह गुरुवार को ही कोर्ट ने स्वतंत्र याचिका पर सुनवाई की मंजूरी दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने जजों के नाम से कथित रूप से रिश्वत लेने से संबंधित याचिका को संविधान पीठ को सौंप दिया है। गुरुवार को इस याचिका की सुनवाई का जिम्मा संविधान पीठ को सौंपा था। पहली बार इस तरह की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच ने सुनवाई की। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के 3 रिटायर्ड जजों के खिलाफ इस तरह याचिका को सुनवाई के पहले दिन ही खारिज कर दिया था। 

Todays Beets: