Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

सुप्रीम कोर्ट ने जजों के रिश्वत मामले की याचिका खारिज की, कहा- एफआईआर में किसी जज का नाम नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने जजों के रिश्वत मामले की याचिका खारिज की, कहा- एफआईआर में किसी जज का नाम नहीं

नई दिल्ली । सुप्रीमकोर्ट ने मंगलवार जजों के रिश्वत वाले केस की जांच एसआईटी से कराने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने मेडिकल कॉलेज को मान्यता देने के लिए जजों के रिश्वत लेने संबधी आरोपों को परेशान करने वाला बताते हुए कहा कि इस मामले में किसी जज का नाम नहीं लिया गया है, न ही एफआईआर में किसी का नाम है। कोर्ट ने कहा कि इस तरह के निराधार आरोपों से न्यायपालिका की प्रतिष्ठा धूमिल हुई है। 

ये भी पढ़ें - रसगुल्ले को लेकर शुरू हुई कानूनी जंग में ओडिशा को हराकर जीता पश्चिम बंगाल, मिला जीआई टैग

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सोमवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने कहा, 'हम भी कानून से ऊपर नहीं हैं और सभी जरूरी प्रक्रियाओं का पालन होना ही चाहिए। इस मामले में कोई एफआईआर सुप्रीम कोर्ट के किसी जज के खिलाफ नहीं दर्ज की गई। सुप्रीम कोर्ट के जजों के खिलाफ निराधार आरोपों की वजह से संस्था के सम्मान को ठेस पहुंची है। यह बहुत अफसोसजनक है कि ऐसे आरोपों के कारण न्यायिक संस्था को बेवजह ही शक के घेरे में रखा गया। 


ये भी पढ़ें - योग पर 'धर्म का ठप्पा' लगाने वालों को तमाचा, सऊदी अरब ने योग को खेल की कैटेगिरी में दी मान्यता 

बता दें कि पिछले सप्ताह गुरुवार को ही कोर्ट ने स्वतंत्र याचिका पर सुनवाई की मंजूरी दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने जजों के नाम से कथित रूप से रिश्वत लेने से संबंधित याचिका को संविधान पीठ को सौंप दिया है। गुरुवार को इस याचिका की सुनवाई का जिम्मा संविधान पीठ को सौंपा था। पहली बार इस तरह की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच ने सुनवाई की। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के 3 रिटायर्ड जजों के खिलाफ इस तरह याचिका को सुनवाई के पहले दिन ही खारिज कर दिया था। 

Todays Beets: