Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

सुप्रीम कोर्ट ने जजों के रिश्वत मामले की याचिका खारिज की, कहा- एफआईआर में किसी जज का नाम नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने जजों के रिश्वत मामले की याचिका खारिज की, कहा- एफआईआर में किसी जज का नाम नहीं

नई दिल्ली । सुप्रीमकोर्ट ने मंगलवार जजों के रिश्वत वाले केस की जांच एसआईटी से कराने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने मेडिकल कॉलेज को मान्यता देने के लिए जजों के रिश्वत लेने संबधी आरोपों को परेशान करने वाला बताते हुए कहा कि इस मामले में किसी जज का नाम नहीं लिया गया है, न ही एफआईआर में किसी का नाम है। कोर्ट ने कहा कि इस तरह के निराधार आरोपों से न्यायपालिका की प्रतिष्ठा धूमिल हुई है। 

ये भी पढ़ें - रसगुल्ले को लेकर शुरू हुई कानूनी जंग में ओडिशा को हराकर जीता पश्चिम बंगाल, मिला जीआई टैग

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सोमवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने कहा, 'हम भी कानून से ऊपर नहीं हैं और सभी जरूरी प्रक्रियाओं का पालन होना ही चाहिए। इस मामले में कोई एफआईआर सुप्रीम कोर्ट के किसी जज के खिलाफ नहीं दर्ज की गई। सुप्रीम कोर्ट के जजों के खिलाफ निराधार आरोपों की वजह से संस्था के सम्मान को ठेस पहुंची है। यह बहुत अफसोसजनक है कि ऐसे आरोपों के कारण न्यायिक संस्था को बेवजह ही शक के घेरे में रखा गया। 


ये भी पढ़ें - योग पर 'धर्म का ठप्पा' लगाने वालों को तमाचा, सऊदी अरब ने योग को खेल की कैटेगिरी में दी मान्यता 

बता दें कि पिछले सप्ताह गुरुवार को ही कोर्ट ने स्वतंत्र याचिका पर सुनवाई की मंजूरी दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने जजों के नाम से कथित रूप से रिश्वत लेने से संबंधित याचिका को संविधान पीठ को सौंप दिया है। गुरुवार को इस याचिका की सुनवाई का जिम्मा संविधान पीठ को सौंपा था। पहली बार इस तरह की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच ने सुनवाई की। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के 3 रिटायर्ड जजों के खिलाफ इस तरह याचिका को सुनवाई के पहले दिन ही खारिज कर दिया था। 

Todays Beets: