Sunday, February 25, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

1 अक्टुबर से मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए आधार कार्ड का नंबर देना होगा अनिवार्य

अंग्वाल न्यूज डेस्क
1 अक्टुबर से मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए आधार कार्ड का नंबर देना होगा अनिवार्य

नई दिल्ली । गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को एक आदेश पारित करते हुए साफ किया कि आगामी 1 अक्टूबर से किसी भी मृत व्यक्ति का मृत्यु प्रमाण पत्र बिना आधार नंबर के जारी नहीं हो सकेगा। मतलब, आने वाले समय में अगर किसी किसी व्यक्ति की मौत होती है तो उसका मृत्यु प्रमाण पत्र, संबंधित विभाग उसी सूरत में बनाएगा, जब उसकी पहचान के लिए आधार कार्ड का नंबर दिया जाएगा। 

बता दें कि इससे पहले केंद्र सरकार ने पैन कार्ड बनवाने के साथ ही कई अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए उक्त व्यक्ति के पास आधार कार्ड को अनिवार्य बना दिया था, जिसको सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई। हालांकि केंद्र सरकार ने पैन कार्ड के लिए आधार को अनिवार्य बनाने के फैसले का बचाव करते हुए कोर्ट में कहा था कि ऐसा देश में फर्जी पैन कार्ड के इस्तेमाल पर अंकुश लगाने के लिये किया गया है।


विदित हो अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने न्यायमूर्ति एके सिकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ से कहा कि पैन का कार्यक्रम संदिग्ध होने लगा था, क्योंकि यह फर्जी भी हो सकता था। हालांकि आधार पूरी तरह सुरक्षित और मजबूत व्यवस्था है, जिसके द्वारा एक व्यक्ति की पहचान को फर्जी नहीं बनाया जा सकता था। 

Todays Beets: