Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

तीन तलाक की शिकार महिला ने तोड़ा दम, उसपर ढाया गया बेतहाशा जुल्म

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तीन तलाक की शिकार महिला ने तोड़ा दम, उसपर ढाया गया बेतहाशा जुल्म

 नई दिल्ली। बरेली में तलाक की भुक्तभोगी एक महिला ने मंगलवार को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। उसके पति ने उसको एक कमरे में महीने भर से बंद रखा था और भोजन भी नहीं देता था। रजिया की बहन का कहना है कि रजिया को फोन पर तीन तलाक दे दिया गया। छह साल के बच्चे की मां रजिया को दहेज के लिए भी प्रताड़ित किया गया। उसका पति दहेज के लिए उसके साथ मारपीट करता था। बीते एक महीने से पर्याप्त भोजन नहीं मिलने और मारपीट के कारण अखिरकार रजिया ने मंगलवार को दम तोड़ दिया। 


रजिया को एक महीने तक घर में बंद रखने के बाद उसके पति ने उसे संबंधियों के पास छोड़ दिया। रजिया की बहन ने कहा कि जैसे ही उसे इस बात की जानकारी मिली वह वहां पहुंची। रजिया की बहन ने कहा कि उसके बाद हमलोग पुलिस के पास मामला दर्ज कराने के लिए गए लेकिन पुलिस ने किसी तरह का मामला दर्ज नहीं किया। 'मेरा हक' एनजीओ के संस्थापक फरहत नकवी ने कहा कि रजिया के पति की पहले भी शादी हुई थी और वह पहली पत्नी के साथ भी इसी तरह मारपीट करता था। रजिया को पहले जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां से डाॅक्टरों ने उसे लखनऊ रेफर कर दिया लेकिन नाजुक स्थिति होने के कारण फिर वापस भेज दिया गया।  बरेली की यह घटना दर्शाती है कि मुस्लिम समाज में आज भी महिलाओं की स्थिति बेहद खराब है। महिलाओं पर जुल्म किए जाते हैं और बराबरी का दर्जा नहीं दिया जाता है। इस समाज में महिलाओं के प्रति घरेलू हिंसा के मामले सर्वाधिक देखने को मिलते हैं। हालांकि शरियत के नियमों के खिलाफ महिलाएं अवाज उठाने लगी हैं लेकिन ऐसी महिलों की तादाद अभी भी बहुत कम है।    

Todays Beets: