Thursday, July 19, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

तीन तलाक की शिकार महिला ने तोड़ा दम, उसपर ढाया गया बेतहाशा जुल्म

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तीन तलाक की शिकार महिला ने तोड़ा दम, उसपर ढाया गया बेतहाशा जुल्म

 नई दिल्ली। बरेली में तलाक की भुक्तभोगी एक महिला ने मंगलवार को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। उसके पति ने उसको एक कमरे में महीने भर से बंद रखा था और भोजन भी नहीं देता था। रजिया की बहन का कहना है कि रजिया को फोन पर तीन तलाक दे दिया गया। छह साल के बच्चे की मां रजिया को दहेज के लिए भी प्रताड़ित किया गया। उसका पति दहेज के लिए उसके साथ मारपीट करता था। बीते एक महीने से पर्याप्त भोजन नहीं मिलने और मारपीट के कारण अखिरकार रजिया ने मंगलवार को दम तोड़ दिया। 


रजिया को एक महीने तक घर में बंद रखने के बाद उसके पति ने उसे संबंधियों के पास छोड़ दिया। रजिया की बहन ने कहा कि जैसे ही उसे इस बात की जानकारी मिली वह वहां पहुंची। रजिया की बहन ने कहा कि उसके बाद हमलोग पुलिस के पास मामला दर्ज कराने के लिए गए लेकिन पुलिस ने किसी तरह का मामला दर्ज नहीं किया। 'मेरा हक' एनजीओ के संस्थापक फरहत नकवी ने कहा कि रजिया के पति की पहले भी शादी हुई थी और वह पहली पत्नी के साथ भी इसी तरह मारपीट करता था। रजिया को पहले जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां से डाॅक्टरों ने उसे लखनऊ रेफर कर दिया लेकिन नाजुक स्थिति होने के कारण फिर वापस भेज दिया गया।  बरेली की यह घटना दर्शाती है कि मुस्लिम समाज में आज भी महिलाओं की स्थिति बेहद खराब है। महिलाओं पर जुल्म किए जाते हैं और बराबरी का दर्जा नहीं दिया जाता है। इस समाज में महिलाओं के प्रति घरेलू हिंसा के मामले सर्वाधिक देखने को मिलते हैं। हालांकि शरियत के नियमों के खिलाफ महिलाएं अवाज उठाने लगी हैं लेकिन ऐसी महिलों की तादाद अभी भी बहुत कम है।    

Todays Beets: