Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड से नाराज हुए मुस्लिम संगठन, खिलाफत में उतरे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड से नाराज हुए मुस्लिम संगठन, खिलाफत में उतरे

 नई दिल्ली। एआईएमपीएलबी (आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड) की खिलाफत में मुस्लिम संगठन खड़े हो गए हैं। एआईएमपीएलबी द्वारा उठाए जाने वाले कदम भाजपा और संघ के लिए खाद पानी का काम कर रहे हैं । तीन तलाक का मद्दा हो या फिर बाबरी मस्जिद और शरिया अदालत बनाने का फैसला हो, एआईएमपीएलबी के स्टैंड से मुसलमानों को फायदा कम और नुकसान ज्यादा हो रहा है। हां संघ और भाजपा को जरूर लाभ हो रहा है। एआईएमपीएलबी के खिलाफ शिया वक्फ बोर्ड पहले से ही अभियान चला रहा था, अब सुन्नी समुदाय का बरेलवी फिरका भी नाराज दिख रहा है।

दरअसल, एआईएमपीएलबी  ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले शरिया अदालतों को बनाने का ऐलान किया था। इस सुन्नी बरेलवी फिरका नाराज चल रहा है। मौलाना तौकीर रजा का कहना है कि एआईएमपीएलबी आरएसएस की गोद में बैठ गया है और उसी के इशारे पर काम कर रहा है। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले वोटों के ध्रवीकरण के लिए हिंदू और मुसलमान को आमने-सामने लाने की कोशिश की जा रही है। बता दें कि एआईएमपीएलबी ने रविवार को बैठक करके 10 शरिया अदालतों को मंजूरी दी है। जिनमें 2 यूपी, 1 गुजरात, 1 महाराष्ट्र और 2 अन्य राज्यों पर जल्द बनाए जाएंगे ।


 एआईएमपीएलबी भी इस बात को मानता है कि उसके फैसलों से भाजपा और आरएसएस को फायदा होता है। एआईएमपीएलबी के सदस्य जफरयाब जिलानी का कहना है कि हमारे फैसलों से भाजपा और आरएसएस को सियासत करने का मौका मिलता है और वो राजनीतिक रोटियां सेंकने का कोई मौका नहीं छोड़ते।  

Todays Beets: