Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

LIVE - ट्रेन के ड्राइवर का कबूलनामा, कहा- घुमावदार ट्रैक पर लगाए थे इमरजेंसी ब्रेक , लेकिन तब तक देर हो चुकी थी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE - ट्रेन के ड्राइवर का कबूलनामा, कहा- घुमावदार ट्रैक पर लगाए थे इमरजेंसी ब्रेक , लेकिन तब तक देर हो चुकी थी

अमृतसर । पंजाब के अमृतसर के करीब हुए रेल हादसे में जहां 65 लोगों की मौत की खबरें हैं , वहीं इस समय सीएम अमरिंदर सिंह के दौरे का विरोध कर रहे लोगों को पुलिस खदेड़ रही है। इस सब के बीच अमृतसर रेल हादसे को लेकर  रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने माना कि डीजल मल्टीपल यूनिट (डीएमयू) जालंधर-अमृतसर पैसेंजर ट्रेन के लोको पायलट ने आपातकालीन ब्रेक का उपयोग नहीं किया। जबकि ड्राइवर का बयान अपने अधिकारी से बिल्कुल अलग है। ड्राइवर का कहना है कि कि उसने इमरजेंसी ब्रेक लगाए थे लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। 

घुमावदार था घटनास्थल के करीब ट्रैक

ट्रेन के ड्राइवर ने अपने बयान में कहा कि घुमावदार रूट के कारण उसे रावण दहन कार्यक्रम के लिए मौजूद भीड़ जो ट्रैक पर मौजूद थी, दूर से दिखाई नहीं दी। जब उसने भीड़ को देखा तो उसने आपातकालीन ब्रेक लगाने की कोशिश की थी लेकिन ट्रेन रुकने से पहले काफी लोग उसकी चपेट में आ गए । हादसे के वक्त ट्रेन की रफ्तार 90 किमी/घंटा थी। घटना के बाद उसने ट्रेन को नहीं रोका क्योंकि लोगों ने ट्रेन पर हमला करना शुरू कर दिया था।

अमृतसर रेल हादसा - पार्षद की लापरवाही बनी दर्दनाक हादसे का कारण , अब तक 60 लोगों की मौत, मौत पर अब राजनीति हुई शुरू

लोगों की सुरक्षा के लिए ड्राइवर ने ऐसा किया


इस सब से इतर डीआरएम विवेक कुमार ने कहा कि मैं किसी पर दोषारोपण नहीं कर रहा लेकिन यह बात मानता हूं कि इस हादसे को रोका जा सकता था। उन्होंने कहा कि ट्रेन ड्राइवर ने गति को नियंत्रित करने की कोशिश की लेकिन वह ऐसा नहीं कर सका। जब ट्रेन रुकी तो लोगों ने उस पर हमला कर दिया इसलिए ट्रेन ड्राइवर ने यात्रियों की सुरक्षा के लिए उसे अमृतसर की ओर ले गया।

 कैप्टन अमरिंदर के अमृतसर दौरे को लेकर हंगामा , विरोध कर रहे लोगों की पुलिस से झड़प

क्रॉसिंग पर खड़े लोगों ने नहीं दी सूचना

वहीं रेलवे अधिकारी ने स्वीकार किया कि क्रॉसिंग पर खड़े व्यक्ति को नजदीकी स्टेशन को वहां कार्यक्रम की भीड़ इकट्ठी होने की सूचना देनी चाहिए थी। स्टेशन मास्टर को सतर्क होना चाहिए था और बाद में उसे लोको पायलटों को सतर्क करना चाहिए था। उन्होंने कहा कि शुक्रवार शाम कार्यक्रम के समय मानवीय क्रॉसिंग के दरवाजे बंद थे। रेलवे अधिकारियों ने ड्राइवर द्वारा ट्रेन नहीं रोके जाने पर अपने बचाव में कहा, "वहां पर इतना धुआं था कि ड्राइवर कुछ देख ही नहीं पाया और उसके सामने कर्व (घुमावदार ट्रैक) भी था।

युवा रोहिंग्या मुसलमानों को बरगलाकर दिल्ली-एनसीआर दहलाने की साजिश, कुछ को नेपाल के रास्ते पाकिस्तान ट्रेनिंग के लिए भेजा

Todays Beets: