Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

अयोध्या मसले पर मुस्लिम पक्षकार का दावा, कहा-फैसला जब भी आए, हमारे पक्ष में ही होगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अयोध्या मसले पर मुस्लिम पक्षकार का दावा, कहा-फैसला जब भी आए, हमारे पक्ष में ही होगा

नई दिल्ली। अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई अब 29 जनवरी तक टल गई। मुस्लिम पक्षकार के वकील ने मौजूदा 5 जजों की बेंच में शामिल जस्टिस यूयू ललित के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के वकील के तौर पर पेश होने का हवाला दिया। इसके बाद उन्होंने खुद को इस मामले की सुनवाई से अलग कर लिया। अब नई बेंच का गठन होगा और वह इस मामले की सुनवाई शुरू करेगी। यहां गौर करने वाली बात है कि मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि उन्हें पूरी उम्मीद है कि फैसला उनके पक्ष में ही आएगा।

गौरतलब है कि बाबरी के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि कोर्ट पर हमारा कोई दबाव नहीं है। जो भी निर्णय होगा उसे सबको मानना पड़ेगा। इकबाल अंसारी ने कहा कि सारे सबूत कोर्ट के सामने पेश कर दिए गए हैं और उन्हें पूरा भरोसा है कि सुप्रीम कोर्ट उनके पक्ष में ही फैसला देगा। 

ये भी पढ़ें - सामान्य आरक्षण बिल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर हुई याचिका, निरस्त करने की मांग


यहां बता दें कि इकबाल अंसारी ने कहा कि हम हिंदू-मुसलमान की बात नहीं करते हम समाजवादी हैं। उन्होंने कहा कि कोर्ट सुबूतों के आधार पर निर्णय देती है, भावनाओं के आधार पर नहीं चलता है। इकबाल का कहना है कि जिसका  सुबूत मजबूत होंगे कोर्ट का निर्णय उसी के पक्ष में आएगा। 

 

Todays Beets: