Sunday, September 24, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

उत्तराखंड, सिक्किम और अरुणाचल बॉर्डर पर जवानों की संख्या बढ़ाई, 45 हजार जवान हर स्थिति से निपटने को तैयार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड, सिक्किम और अरुणाचल बॉर्डर पर जवानों की संख्या बढ़ाई, 45 हजार जवान हर स्थिति से निपटने को तैयार

नई दिल्ली । भारतीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को सदन में साफ कर दिया कि वह चीन की किसी भी साजिश से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने कहा कि हम सीमा पर हर स्थिति से निपटने के लिए क्षेत्र में पूर्ण रूप से सक्षम हैं। इस सब के बाद अब सेना ने उत्तराखंड समेत सिक्किम से लेकर अरुणाचल प्रदेश की 1400 किलोमीटर लंबी सीमा पर अपने सुरक्षा बलों की संख्या में इजाफा कर दिया है। साथ ही करीब 45 हजार जवानों को सीमा पर हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा गया है। भारत डोकलाम विवाद को लेकर अपने रुख पर कायम है, जबकि चीन हर दिन एक नई धमकी के साथ भारत को पीछे हटने की चेतावनी देता रहता है। 

ये भी पढ़ें- यात्रीगण कृप्या ध्यान दें, अब आप रविवार को भी रात 8 बजे तक करा सकेंगे आरक्षण, जानें किन स्टेशनों पर हुई शुरुआत

धमकियों के बीच उठाया अहम कदम

बता दें कि डोकलाम विवाद के बीच भारत ने एक बार फिर अपना रणनीतिक कदम उठाते हुए चीन से सटे सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश की सीमा समेत उत्तराखंड में सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है। सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी है। पिछले दिनों चीन की ओर से जारी धमकियों और चेतावनियों के बीच भारतीय फौज के इस कदम को काफी अहम माना जा रहा है। 

ये भी पढ़ें- ऑक्सीजन की कमी से 33 नहीं पिछले 6 दिनों में 63 बच्चों की हुई मौत, अस्पताल-प्रशासन जिम्मेदारी ...

चौकसी का स्तर भी बढ़ाया

इतना ही नहीं भारतीय फौज ने सिक्किम से लेकर अरुणाचल तक के 1400 किमी लंबी सीमा की चौकसी और उत्तराखंड में चीन से लगे बॉर्डर पर चौकसी का स्तर भी बढ़ा दिया है। डोकलाम पर चीन का उग्र रुख देखते हुए भारत ने पूरे मामले की समीक्षा की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, सेना की सुकना बेस 33 कॉर्प के अलावा अरुणाचल और असम में स्थित 3 और 4 कॉर्प बेस को संवेदनशील भारत-चीन सीमा की निगरानी का जिम्मा सौंपा गया है।


ये भी पढ़ें- नवाज शरीफ ने खुद को प्रधानमंत्री पद से हटाए जाने को बताया मजाक, कहा चौथी बार भी बनेंगे प्रधानमंत्री

45 हजार जवान तैयार

वहीं जानकारों का कहना है कि इस समय भारतीय सीमा पर जारी तनाव के मद्देनजर 45 हजार जवानों को हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा गया है। हालांकि डोकलाम में सेना की ओर से जवानों की संख्या नहीं बढ़ाई गई है, वहां अभी भी 350 जवान इलाके में मौजूद हैं।

ये भी पढ़ें- पत्थरबाजों ने फिर की जाकिर मूसा की मदद, सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में रहा कामयाब

डोकलाम विवाद से रिश्तों में दरार बढ़ी

बता दें कि चीन डोकलाम इलाके में सड़क बना रहा है, जिसका भारत ने पुरजोर विरोध किया है। भारत ने कहा कि शर्तों के मुताबिक इस क्षेत्र में कोई भी परिवर्तन नहीं किया जा सकता, जिसमें भारत-चीन-भुटान कुछ शर्तों से बंधे हुए हैं। बावजूद इसके चीन इस क्षेत्र में निर्माण कार्य को लेकर आक्रमक हो रहा है। भारत द्वारा इस इलाके में अपने 350 जवानों को तैनात कर चुका है, जिन्हें पीछे हटाने के लिए चीन ने हर संभव प्रयास कर लिए हैं। अब वह बार-बार युद्ध की चेतावनी दे रहा है। ऐसे में भारत सरकार ने भी चीन को लेकर सख्त रुख अख्तियार करते हुए हर स्थिति से निपटने के लिए सक्षम होने की बात कही है। हालांकि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने हाल ही में बयान दिया था कि दोनों पक्षों में बातचीत सेना हटाने के बाद ही संभव है। उन्होंने सीमा पर गतिरोध को शांतिपूर्ण तरीके से खत्म करने की बात भी कही थी।

ये भी पढ़ें- सोनिया गांधी की बैठक में शामिल होने वाले जदयू सांसद अली अनवर पार्टी से निलंबित

Todays Beets: