Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

अवार्ड वापसी मामले पर साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष का बड़ा खुलासा, कहा- मोदी सरकार को बदनाम के लिए किया गया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अवार्ड वापसी मामले पर साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष का बड़ा खुलासा, कहा- मोदी सरकार को बदनाम के लिए किया गया

नई दिल्ली। वरिष्ठ साहित्यकारों द्वारा साल 2015 में किए गए पुरस्कार वापसी के मुद्दे को लेकर साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने बड़ा खुलासा किया है। तिवारी ने कहा कि जितने भी लेखकों और शायरों ने अवार्ड वापसी पूरी तरह से राजनीतिक था। उन्होंने कहा कि इसका मकसद मोदी सरकार को पूरे देश में बदनाम करने की कोशिश के तहत किया गया था। 

गौरतलब है कि साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने एक लेख में इन बातों का जिक्र किया है। बता दें कि साल 2015 में करीब 50 से ज्यादा साहित्यकारों ने अपने पुरस्कार वापस कर दिए थे। उन्होंने अपने लेख में तो यहां तक लिखा है कि पूरे अभियान के पीछे लेखक और कवि अशोक वाजपेई का दिमाग था।


ये भी पढ़ें - मुंबई के सरकारी स्कूल में आयरन की गोली खाने से 1 छात्रा की मौत, 75 बीमार, अस्पताल में भर्ती

यहां बता दें कि विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने कहा कि पुरस्कार वापसी का मकसद बिहार विधानसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार को बदनाम करना था। तिवारी ने कहा कि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि ये किन लेखकों के दिमागी उपज थी? 

Todays Beets: