Monday, August 20, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

अवार्ड वापसी मामले पर साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष का बड़ा खुलासा, कहा- मोदी सरकार को बदनाम के लिए किया गया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अवार्ड वापसी मामले पर साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष का बड़ा खुलासा, कहा- मोदी सरकार को बदनाम के लिए किया गया

नई दिल्ली। वरिष्ठ साहित्यकारों द्वारा साल 2015 में किए गए पुरस्कार वापसी के मुद्दे को लेकर साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने बड़ा खुलासा किया है। तिवारी ने कहा कि जितने भी लेखकों और शायरों ने अवार्ड वापसी पूरी तरह से राजनीतिक था। उन्होंने कहा कि इसका मकसद मोदी सरकार को पूरे देश में बदनाम करने की कोशिश के तहत किया गया था। 

गौरतलब है कि साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने एक लेख में इन बातों का जिक्र किया है। बता दें कि साल 2015 में करीब 50 से ज्यादा साहित्यकारों ने अपने पुरस्कार वापस कर दिए थे। उन्होंने अपने लेख में तो यहां तक लिखा है कि पूरे अभियान के पीछे लेखक और कवि अशोक वाजपेई का दिमाग था।


ये भी पढ़ें - मुंबई के सरकारी स्कूल में आयरन की गोली खाने से 1 छात्रा की मौत, 75 बीमार, अस्पताल में भर्ती

यहां बता दें कि विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने कहा कि पुरस्कार वापसी का मकसद बिहार विधानसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार को बदनाम करना था। तिवारी ने कहा कि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि ये किन लेखकों के दिमागी उपज थी? 

Todays Beets: