Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

नकली करेंसी छापने के मामले में पाकिस्तान को मात देने निकाला है बंगलादेश  

अंग्वाल संवाददाता
नकली करेंसी छापने के मामले में पाकिस्तान को मात देने निकाला है बंगलादेश  

नई दिल्ली। पिछले साल नवबंर के महीने में भारत में नोटबंदी का फैसला जाली मुद्रा पर रोक और काले धन पर काबू पाने के लिया गया था। हालांकि पूरी तरह तो नहीं पर सरकार का यह मकसद में कुछ हद तक पूरा हो गया है। तभी पाकिस्तान से भारत आने वाली जाली मुद्रा में बड़ी मात्रा में कमी देखी गई है, लेकिन अब पाकिस्तान के बजाय बंगलादेश में मुद्रा तस्करी और नकली नोटों की छपाई का काम बढ़ गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, बीएसएफ द्वारा बांगलादेश की सीमा से जब्त किए गए जाली नोटों के आंकड़े इस ओर इशारा कर रहे हैं। बंगालदेश की सीमा से सुरक्षाबलों ने करीब 6.90 लाख रुपये के नकली नोट बरामद किए हैं। मालदा के बीएसएफ चुरियंतपुर आउट पोस्ट पर 2000 के नकली नोटों जब्त किए हैं। 

यह भी पढ़े- रेयान स्कूल हत्याकांड में मलिकों की अग्रिम जमानत पर बॉम्बे हाईकोर्ट में आज सुनवाई 

बता दें कि पहले पाकिस्तान और बंगलादेश से जुड़ी 13 सीमाई इलाकों से जाली नोट भारत आते थे। ये इलाके जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, गुजरात, पश्चिम बंगाल, असम और मेघालय से लगते हैं, मगर पिछले साल नोटबंदी के बाद इनमें से 11 सीमाई इलाकों में नकली नोट बरामद होने के मामले लगभग न के बराबर ही सामने आए हैं।  मगर असम और पश्चिम बंगाल में बांगलादेश से सटे सीमाई इलाकों में इस साल की शुरुआत से जाली नोटों की बरामदगी में बढ़ोतरी देखने को मिली है।


यह भी पढ़े- मोदी सरकार के खिलाफ भारतीय मजदूर संघ का प्रदर्शन, 5 लाख मजदूर करेंगे संसद तक मार्च 

बीएसएफ के खुफिया सूत्रों की मानें तो नोटबंदी के बाद पाकिस्तान में संभवत: नकली नोट छापने वाले गिरोह ने अब तक नए सिरे से बड़ा निवेश नहीं किया है। जबकि बांगलादेश ने 2,000 के नकली नोट छापने के लिए सऊदी अरब और मलेशिया से उपयुक्त कागज मंगवाना शुरू कर दिया है। 

Todays Beets: