Wednesday, February 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बांग्लादेश में मरी हुई बकरी की रिपोर्टिंग करने पर पत्रकार को किया गिरफ्तार, मानहानि का मुकदमा भी लगाया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बांग्लादेश में मरी हुई बकरी की रिपोर्टिंग करने पर पत्रकार को किया गिरफ्तार, मानहानि का मुकदमा भी लगाया

ढाका।

बांग्लादेश में पत्रकार की गिरफ्तारी का एक अजीबो—गरीब मामला सामने आया है। इस पत्रकार को एक मरी हुई बकरी की रिपोर्टिंग करने पर गिरफ्तार किया गया। इतना ही नहीं उस पर मानहानि का मुकदमा भी दर्ज किया गया है। अब बांग्लादेश में इस पत्रकार को रिहा करने की मांग जोर पकड़ रही है। द कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स ने प्रशासन से कहा है कि अब्दुल लतीफ ने ऐसा कुछ गलत नहीं किया जिसके लिये उन्हें सजा भुगतनी पड़े।

ये भी पढ़ें— कुलगाम में दो आतंकी ढेर, शोपियां में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में मेजर और एक जवान शहीद

जानकारी के अनुसार, बांग्लादेशी पत्रकार अब्दुल लतीफ मॉरोल को पुलिस ने मरी हुुई बकरी की रिपोर्टिंग करने के आरोप में ​ढाका से गिरफ्तार किया था। दरअसल, बांग्लादेश में मत्स्य पालन और पशुधन राज्यमंत्री नारायण चंद्र चंदा ने 30 जुलाई को गरीबों को बकरियां दान में दी थीं। स्थानीय मीडिया के मुताबिक दान में दी बकरियों में से एक की मौत हो गई थी। इसके बाद पत्रकार अब्दुल लतीफ ने एक फेसबुक पोस्ट लिखी। उसमें उन्होंने लिखा, सुबह राज्य मंत्री द्वारा दी गई बकरी शाम को मर जाती है। इस पोस्ट के बाद पुलिस ने मॉरोल को गिरफ्तार कर लिया।

ये भी पढ़ें— अमेरिका ने अपने नागरिकों से उत्तर कोरिया छोड़ने को कहा, उत्तर कोरिया पर लागू कर सकता है नई यात्रा चेतावनी


पुलिस का दावा है कि मॉरोल ने चंदा को फेसबुक पर अपमानजनक पोस्ट करके बदनाम किय। इसके लिए उनपर मानहानि का केस दर्ज किया गया। पत्रकार की गिरफ्तारी पर द कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स ने वाशिंगटन डीसी में एक कार्यक्रम में कहा कि एक मरी हुई बकरी की मौत की रिपोर्ट करने के लिए एक पत्रकार को गिरफ्तार करना बेतुका है और उन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें— आठवीं तक बच्चों को फेल न करने की नीति होगी खत्म, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दी प्रस्ताव को मंजूरी

 

 

 

Todays Beets: