Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

बरेली के इमाम का विवादित फतवा, निदा खान का सिर कलम करने वाले को इनाम का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बरेली के इमाम का विवादित फतवा, निदा खान का सिर कलम करने वाले को इनाम का ऐलान

नई दिल्ली। निदा खान ने शनिवार को कहा कि एक फतवा उसके खिलाफ जारी किया गया है। इसमें कहा गया है कि जो भी निदा खान का सिर कलम करेगा उसे पुरस्कार के तौर पर 11 हजार 786 रुपये दिया जाएगा। तीन दिन के भीतर देश नहीं छोड़ती तो मुझपर पत्थरों से हमला किया जाएगा। तीन तलाक की शिकार निदा खान ने कहा कि ऐसी फतवा जारी करने वालों रोकना चाहिए। निदा खान ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलकात का समय लेकर फतवा पर रोक लगाने की मांग करूंगी। 

अविश्वास प्रस्ताव बहुमत बनाम नैतिकता थी: चंद्रबाबू नायडू 

तीन तलाक की शिकार निदा खान ने कहा कि प्रधानमंत्री आज शाहजहांपुर में थे, पर मैंने खुद की सुरक्षा के कारण उनसे नहीं मिलने का फैसला किया। बता दंे कि इससे पहले बरेली की अदालत निदा खान के शौहर शरीन द्वारा दिए गए तीन तलाक को अवैघ करार दिया था। घरेलू हिंसा मामले पर रोक लगाने की शौकर शरीन की याचिका को कोर्ट ने नामंजूर कर दिया था। अब मामले की अगली सुनवाई 27 जुलाई को होनी है। 


ममता ने भाजपा को ललकारा, 15 अगस्त से करेंगी 'भाजपा हटाओ देश बचाओ' अभियान की शुरुआत 

पिछले दिनों भी बरेली के इमाम ने निदा खान के खिलाफ फतवा जारी कर कहा था कि अगर वह बीमार पड़ती तो दवा नहीं दी जाएगी, मौत हो जाती है तो कोई जनाजे में शामिल नहीं होगा और न ही नमाज पढ़ेगा। फतवा में मदद करने वाले को भी सजा देने की बात कही गई थी। मुस्लिम विरोधी स्टैंड छोड़ने के बाद ही मुस्लिम उससे संपर्क करेंगे।             

Todays Beets: