Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

बरेली के इमाम का विवादित फतवा, निदा खान का सिर कलम करने वाले को इनाम का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बरेली के इमाम का विवादित फतवा, निदा खान का सिर कलम करने वाले को इनाम का ऐलान

नई दिल्ली। निदा खान ने शनिवार को कहा कि एक फतवा उसके खिलाफ जारी किया गया है। इसमें कहा गया है कि जो भी निदा खान का सिर कलम करेगा उसे पुरस्कार के तौर पर 11 हजार 786 रुपये दिया जाएगा। तीन दिन के भीतर देश नहीं छोड़ती तो मुझपर पत्थरों से हमला किया जाएगा। तीन तलाक की शिकार निदा खान ने कहा कि ऐसी फतवा जारी करने वालों रोकना चाहिए। निदा खान ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलकात का समय लेकर फतवा पर रोक लगाने की मांग करूंगी। 

अविश्वास प्रस्ताव बहुमत बनाम नैतिकता थी: चंद्रबाबू नायडू 

तीन तलाक की शिकार निदा खान ने कहा कि प्रधानमंत्री आज शाहजहांपुर में थे, पर मैंने खुद की सुरक्षा के कारण उनसे नहीं मिलने का फैसला किया। बता दंे कि इससे पहले बरेली की अदालत निदा खान के शौहर शरीन द्वारा दिए गए तीन तलाक को अवैघ करार दिया था। घरेलू हिंसा मामले पर रोक लगाने की शौकर शरीन की याचिका को कोर्ट ने नामंजूर कर दिया था। अब मामले की अगली सुनवाई 27 जुलाई को होनी है। 


ममता ने भाजपा को ललकारा, 15 अगस्त से करेंगी 'भाजपा हटाओ देश बचाओ' अभियान की शुरुआत 

पिछले दिनों भी बरेली के इमाम ने निदा खान के खिलाफ फतवा जारी कर कहा था कि अगर वह बीमार पड़ती तो दवा नहीं दी जाएगी, मौत हो जाती है तो कोई जनाजे में शामिल नहीं होगा और न ही नमाज पढ़ेगा। फतवा में मदद करने वाले को भी सजा देने की बात कही गई थी। मुस्लिम विरोधी स्टैंड छोड़ने के बाद ही मुस्लिम उससे संपर्क करेंगे।             

Todays Beets: