Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

दिल्ली में भिक्षावृत्ति नहीं होगा अपराध, भिखारियों का गिरफ्तार नहीं कर सकती है पुलिस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली में भिक्षावृत्ति नहीं होगा अपराध, भिखारियों का गिरफ्तार नहीं कर सकती है पुलिस

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस अब सड़कों पर भीख मांगने वालों को गिरफ्तार नहीं कर सकती है। दिल्ली हाईकोर्ट ने भिक्षावृत्ति को अपराध बनाने वाले कानून बांबे भिक्षावृत्ति रोकथाम अधिनियम 1959 को राजधानी के संदर्भ में असंवैधानिक बताते हुए खारिज कर दिया है। पहले पुलिस भिखारियों को  इसी अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया करती थी। कोर्ट ने जबरन भिक्षावृत्ति कराने पर कार्रवाई दिल्ली सरकार को कानून बनाने की छूट दी है।  

गौरतलब है कि हाईकोर्ट की कार्यवाहक मुख्य न्यायामूर्ति गीता मित्तल और न्यायामूर्ति सी. हरिशंकर की खंडपीठ ने कहा कि दिल्ली में भिक्षावृत्ति को अपराध मानना और पुलिस द्वारा उन्हें गिरफ्तार करना असंवैधानिक है ऐसे में इस अधिनियम को खारिज किया जाता है। कोर्ट ने यह भी कहा है कि इससे अलग मुद्दों से संबंधित प्रावधानों को खारिज करने की जरूरत नहीं है, यह पहले की तरह ही प्रभावी रहेंगे।


ये भी पढ़ें - दिल्ली के बाद बुलंदशहर में भी कांवड़ियों का उत्पात, पुलिस की गाड़ी को बनाया निशाना

यहां बता दें कि हाईकोर्ट ने जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि जिस देश में सरकार लोगों को रोजगार नहीं दे पा रही है वहां भिक्षावृत्ति को अपराध कैसे माना जा सकता है। गौर करने वाली बात है कि सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंदार और कर्णिका साहनी ने जनहित याचिका दायर कर दिल्ली में भिखारियों को मूलभूत सुविधाएं देने और भिक्षावृत्ति को अपराध के दायरे से बाहर लाने की मांग की थी। 

Todays Beets: