Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

दिल्ली में भिक्षावृत्ति नहीं होगा अपराध, भिखारियों का गिरफ्तार नहीं कर सकती है पुलिस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली में भिक्षावृत्ति नहीं होगा अपराध, भिखारियों का गिरफ्तार नहीं कर सकती है पुलिस

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस अब सड़कों पर भीख मांगने वालों को गिरफ्तार नहीं कर सकती है। दिल्ली हाईकोर्ट ने भिक्षावृत्ति को अपराध बनाने वाले कानून बांबे भिक्षावृत्ति रोकथाम अधिनियम 1959 को राजधानी के संदर्भ में असंवैधानिक बताते हुए खारिज कर दिया है। पहले पुलिस भिखारियों को  इसी अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया करती थी। कोर्ट ने जबरन भिक्षावृत्ति कराने पर कार्रवाई दिल्ली सरकार को कानून बनाने की छूट दी है।  

गौरतलब है कि हाईकोर्ट की कार्यवाहक मुख्य न्यायामूर्ति गीता मित्तल और न्यायामूर्ति सी. हरिशंकर की खंडपीठ ने कहा कि दिल्ली में भिक्षावृत्ति को अपराध मानना और पुलिस द्वारा उन्हें गिरफ्तार करना असंवैधानिक है ऐसे में इस अधिनियम को खारिज किया जाता है। कोर्ट ने यह भी कहा है कि इससे अलग मुद्दों से संबंधित प्रावधानों को खारिज करने की जरूरत नहीं है, यह पहले की तरह ही प्रभावी रहेंगे।


ये भी पढ़ें - दिल्ली के बाद बुलंदशहर में भी कांवड़ियों का उत्पात, पुलिस की गाड़ी को बनाया निशाना

यहां बता दें कि हाईकोर्ट ने जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि जिस देश में सरकार लोगों को रोजगार नहीं दे पा रही है वहां भिक्षावृत्ति को अपराध कैसे माना जा सकता है। गौर करने वाली बात है कि सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंदार और कर्णिका साहनी ने जनहित याचिका दायर कर दिल्ली में भिखारियों को मूलभूत सुविधाएं देने और भिक्षावृत्ति को अपराध के दायरे से बाहर लाने की मांग की थी। 

Todays Beets: