Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

जेल से रिहा होती की भाजपा के खिलाफ दहाड़ा ‘रावण’, 2019 में उखाड़ फेंकने की अपील

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जेल से रिहा होती की भाजपा के खिलाफ दहाड़ा ‘रावण’, 2019 में उखाड़ फेंकने की अपील

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश के सहारनपुर में साल 2017 में हुई जातीय हिंसा के मुख्य आरोपी और भीम सेना के प्रमुख चंद्रशेखर उर्फ रावण को देर रात जेल से रिहा कर दिया गया है। जेल से निकलते ही उसने भाजपा के खिलाफ जोरदार हमला बोला है। उसने साल 2019 में भाजपा को उखाड़ फेंकने का लोगों से अनुरोध किया है। चंद्रशेखर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद सरकार ने उन्हंे रिहा किया है। बता दें कि चंद्रशेखर उर्फ रावण पिछले 16 महीनों से एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत जेल में बंद हो गया था। 

गौरतलब है कि भीम सेना के प्रमुख की रिहाई की खबर मिलते ही जेल की चारों ओर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की दी गई थी। जेल से निकलने के बाद ही उसने एक सभा को संबोधित किया और उसमें जमकर भाजपा पर हमला बोला। उसने कहा कि केंद्र सरकार को लगातार सुप्रीम कोर्ट से लगातार लताड़ लगाई जा रही थी ऐसे में सरकार ने खुद को बचाने के लिए उनकी रिहाई का आदेश दिया है। हालांकि प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया कि रावण की रिहाई का आदेश उसकी मां के प्रार्थना पत्र पर दिया गया है। 


ये भी पढ़ें - चंद्रबाबू नायडू को अदालत ने दिया झटका, 2010 के मामले में जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट

यहां बता दें कि चंद्रशेखर उर्फ रावण ने सभा में भाजपा के खिलाफ जहर उगलते हुए कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि सरकार की ओर से 10 दिनों के अंदर फिर से कोई आरोप लगाए जाएंगे। चंद्रशेखर ने साल 2019 में भाजपा को उखाड़ फेंकने का लोगों से अनुरोध किया। राजनीतिक पंडितों का मानना है कि चंद्रशेखर को रिहा कर सरकार दलितों के बीच अपनी छवि मजबूत करना चाहती है। 

Todays Beets: