Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

नई दिल्ली। कर्नाटक चुनाव में भाजपा की बल्ले-बल्ले हो गई है। रुझानों के अनुसार भाजपा को 115 सीटों पर बढ़त हासिल हो गई है। जेडीएस को किंगमेकर के तौर पर देखा जा रहा था उसका सपना धरा का धरा नजर आ रहा है। शुरुआती रुझानों में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलता दखिाई दे रहा है। मंगलवार की सुबह से शुरू हुई वोटों की गिनती में भाजपा को लगातार बढ़त हासिल हो रही है। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा शिकारीपुरा सीट से आगे चल रहे हैं वहीं कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार सिद्धारमैया अपनी दोनांे ही सीटों से पीछे चल रहे हैं। 

गौरतलब है कि मतदान से पहले दोनों ही पार्टियां अपनी-अपनी जीत के दावे कर रही थी। वहीं जेडीएस का सहयोग लेकर सरकार बनाने के प्लान-बी पर भी काम चल रहा था क्योंकि एग्जिट पोल त्रिशंकु विधानसभा का इशारा कर रहे थे ऐसे में जेडीएस के नेता कुमारास्वामी की भूमिका काफी अहम मानी जा रही थी। 


ये भी पढ़ें - नवजोत सिंह सिद्धू को मिलेगी जेल या राहत, 30 साल पुराने मामले में सुप्रीम कोर्ट आज करेगा फैसला

आपको बता दें कि कांग्रेस के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने चुनाव में दलित कार्ड भी खेल दिया। उन्होंने कहा कि अगर कोई दलित चेहरा सामने आता है तो वे कुर्सी छोड़ने के लिए भी तैयार हैं। हालांकि रुझान के अनुसार यह खेल भी काम करता हुआ नजर नहीं आ रहा है। यहां गौर करने वाली बात है कि भाजपा ने प्रचार में शुरू से ही जेडीएस के प्रति नरम रवैया अपनाया है इससे इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि बहुमत नहीं आने की स्थिति में भाजपा जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बना सकती है लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए जेडीएस का सपना साकार होता दिखाई नहीं दे रहा है।  

Todays Beets: