Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

नई दिल्ली। कर्नाटक चुनाव में भाजपा की बल्ले-बल्ले हो गई है। रुझानों के अनुसार भाजपा को 115 सीटों पर बढ़त हासिल हो गई है। जेडीएस को किंगमेकर के तौर पर देखा जा रहा था उसका सपना धरा का धरा नजर आ रहा है। शुरुआती रुझानों में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलता दखिाई दे रहा है। मंगलवार की सुबह से शुरू हुई वोटों की गिनती में भाजपा को लगातार बढ़त हासिल हो रही है। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा शिकारीपुरा सीट से आगे चल रहे हैं वहीं कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार सिद्धारमैया अपनी दोनांे ही सीटों से पीछे चल रहे हैं। 

गौरतलब है कि मतदान से पहले दोनों ही पार्टियां अपनी-अपनी जीत के दावे कर रही थी। वहीं जेडीएस का सहयोग लेकर सरकार बनाने के प्लान-बी पर भी काम चल रहा था क्योंकि एग्जिट पोल त्रिशंकु विधानसभा का इशारा कर रहे थे ऐसे में जेडीएस के नेता कुमारास्वामी की भूमिका काफी अहम मानी जा रही थी। 


ये भी पढ़ें - नवजोत सिंह सिद्धू को मिलेगी जेल या राहत, 30 साल पुराने मामले में सुप्रीम कोर्ट आज करेगा फैसला

आपको बता दें कि कांग्रेस के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने चुनाव में दलित कार्ड भी खेल दिया। उन्होंने कहा कि अगर कोई दलित चेहरा सामने आता है तो वे कुर्सी छोड़ने के लिए भी तैयार हैं। हालांकि रुझान के अनुसार यह खेल भी काम करता हुआ नजर नहीं आ रहा है। यहां गौर करने वाली बात है कि भाजपा ने प्रचार में शुरू से ही जेडीएस के प्रति नरम रवैया अपनाया है इससे इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि बहुमत नहीं आने की स्थिति में भाजपा जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बना सकती है लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए जेडीएस का सपना साकार होता दिखाई नहीं दे रहा है।  

Todays Beets: