Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

नई दिल्ली। कर्नाटक चुनाव में भाजपा की बल्ले-बल्ले हो गई है। रुझानों के अनुसार भाजपा को 115 सीटों पर बढ़त हासिल हो गई है। जेडीएस को किंगमेकर के तौर पर देखा जा रहा था उसका सपना धरा का धरा नजर आ रहा है। शुरुआती रुझानों में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलता दखिाई दे रहा है। मंगलवार की सुबह से शुरू हुई वोटों की गिनती में भाजपा को लगातार बढ़त हासिल हो रही है। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा शिकारीपुरा सीट से आगे चल रहे हैं वहीं कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार सिद्धारमैया अपनी दोनांे ही सीटों से पीछे चल रहे हैं। 

गौरतलब है कि मतदान से पहले दोनों ही पार्टियां अपनी-अपनी जीत के दावे कर रही थी। वहीं जेडीएस का सहयोग लेकर सरकार बनाने के प्लान-बी पर भी काम चल रहा था क्योंकि एग्जिट पोल त्रिशंकु विधानसभा का इशारा कर रहे थे ऐसे में जेडीएस के नेता कुमारास्वामी की भूमिका काफी अहम मानी जा रही थी। 


ये भी पढ़ें - नवजोत सिंह सिद्धू को मिलेगी जेल या राहत, 30 साल पुराने मामले में सुप्रीम कोर्ट आज करेगा फैसला

आपको बता दें कि कांग्रेस के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने चुनाव में दलित कार्ड भी खेल दिया। उन्होंने कहा कि अगर कोई दलित चेहरा सामने आता है तो वे कुर्सी छोड़ने के लिए भी तैयार हैं। हालांकि रुझान के अनुसार यह खेल भी काम करता हुआ नजर नहीं आ रहा है। यहां गौर करने वाली बात है कि भाजपा ने प्रचार में शुरू से ही जेडीएस के प्रति नरम रवैया अपनाया है इससे इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि बहुमत नहीं आने की स्थिति में भाजपा जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बना सकती है लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए जेडीएस का सपना साकार होता दिखाई नहीं दे रहा है।  

Todays Beets: