Sunday, May 27, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कर्नाटक में भाजपा की हो गई बल्ले-बल्ले, जेडीएस का ‘सपना’ रह गया धरा का धरा

नई दिल्ली। कर्नाटक चुनाव में भाजपा की बल्ले-बल्ले हो गई है। रुझानों के अनुसार भाजपा को 115 सीटों पर बढ़त हासिल हो गई है। जेडीएस को किंगमेकर के तौर पर देखा जा रहा था उसका सपना धरा का धरा नजर आ रहा है। शुरुआती रुझानों में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलता दखिाई दे रहा है। मंगलवार की सुबह से शुरू हुई वोटों की गिनती में भाजपा को लगातार बढ़त हासिल हो रही है। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा शिकारीपुरा सीट से आगे चल रहे हैं वहीं कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार सिद्धारमैया अपनी दोनांे ही सीटों से पीछे चल रहे हैं। 

गौरतलब है कि मतदान से पहले दोनों ही पार्टियां अपनी-अपनी जीत के दावे कर रही थी। वहीं जेडीएस का सहयोग लेकर सरकार बनाने के प्लान-बी पर भी काम चल रहा था क्योंकि एग्जिट पोल त्रिशंकु विधानसभा का इशारा कर रहे थे ऐसे में जेडीएस के नेता कुमारास्वामी की भूमिका काफी अहम मानी जा रही थी। 


ये भी पढ़ें - नवजोत सिंह सिद्धू को मिलेगी जेल या राहत, 30 साल पुराने मामले में सुप्रीम कोर्ट आज करेगा फैसला

आपको बता दें कि कांग्रेस के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने चुनाव में दलित कार्ड भी खेल दिया। उन्होंने कहा कि अगर कोई दलित चेहरा सामने आता है तो वे कुर्सी छोड़ने के लिए भी तैयार हैं। हालांकि रुझान के अनुसार यह खेल भी काम करता हुआ नजर नहीं आ रहा है। यहां गौर करने वाली बात है कि भाजपा ने प्रचार में शुरू से ही जेडीएस के प्रति नरम रवैया अपनाया है इससे इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि बहुमत नहीं आने की स्थिति में भाजपा जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बना सकती है लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए जेडीएस का सपना साकार होता दिखाई नहीं दे रहा है।  

Todays Beets: