Friday, April 19, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

जानिए भाजपा के संकल्प पत्र में क्या है खास , हर किसान को 6 हजार - 60 साल के किसानों को पेंशन , राम मंदिर - धारा 35ए पर नजरिया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जानिए भाजपा के संकल्प पत्र में क्या है खास ,  हर किसान को 6 हजार - 60 साल के किसानों को पेंशन , राम मंदिर - धारा 35ए पर नजरिया

नई दिल्ली । भारतीय जनता पार्टी ने भी आखिरकार लोकसभा चुनावों के मद्देनजर अपना संकल्प पत्र जारी किया , हालांकि उन्होंने इसे घोषणापत्रा न कहते हैं संकल्पपत्र नाम दिया । इस संकल्प पत्र को भाजपा ने 'संकल्पित भारत, सशक्त भारत' नाम दिया, जिसमें भाजपा ने अपने आगामी पांच सालों के लिए अपनी पार्टी का विजन देश के सामने रखा । भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृहमंत्री समेत इस संकल्प पत्र समिति के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने भाजपा के इस विजन डॉक्यूमेंट को मीडिया और देश के सामने रखाा । इस दौरान केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि देश और मीडिया हमारे इस संकल्प पत्र और अन्य दलों के घोषणापत्र की तुलना जरूर करें। देखें कि किस तरह हम देश में विकास की गंगा बहाने की बात कर रहे हैं और वो क्या बातें कर रहे हैं। हम सबका साथ सबका विकास की बातें करते हैं तो वो किस तरह कुछ लोगों के तुष्टीकरण के लिए काम करने की बातें कर रहे हैं। राजनाथ सिंह समेत सुषमा स्वराज ने इस दौरान आशा जताई की देशवासी उनके संकल्प पत्र को ध्यान से पढ़ें।

तो चलिए एक नजर डालते हैं भाजपा के उन अहम मुद्दों पर जिन पर पार्टी ने ज्यादा फोकस किया है। केंद्रीय गृहमंत्री और संकल्प पत्र निर्माण समिति के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने अपने संकल्प पत्र के कुछ अहम मुद्दों को मीडिया और देश के सामने रखा । राजनाथ सिंह ने राष्ट्रवाद , राम मंदिर और किसानों समेत कई मुद्दों पर खुलकर अपनी बात रखी।

राम मंदिर  - संकल्प पत्रि समिति के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने  इस दौरान कहा कि राम मंदिर को लेकर हर संभव प्रयास किए जाएंगे। मामला अभी कोर्ट में है लेकिन हमारा मानना है कि जल्द से जल्द सौहार्दपूर्ण माहौल में राम मंदिर का निर्माण हो ।

धारा 370- इस दौरान भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में साफ किया कि वह जम्मू कश्मीर में धारा 35ए को खत्म करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे ।

तीन तलाक- संकल्प पत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के साथ ही तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं के लिए न्याय सुनिश्चित करने का वादा भी किया गया है।

आतंकवाद पर जीरो टोलरेंस- इसी क्रम में उन्होंने घोषणा करते हुए कहा- सुरक्षा नीति पर भाजपा का नजरिया बिल्कुल स्पष्ट है । उन्होंने कहा कि आतंकवाद पर जीरो टॉलरेंस है और हाल ही में किए गए सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक इसका उदाहरण है।


घुसपैठियों पर सख्ती -  वहीं राजनाथ सिंह ने देश में घुसपैठ को लेकर अपनी पार्टी के रुख को स्पष्ट किया । उन्होंने कहा कि इसके लिए सीमाओं की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई जाएगी और इस दिशा में स्मार्ट फेंसिंग का पायलट प्रोजेक्ट असम में लागू किया गया था, जो सभी सीमाओं पर लागू किया जाएगा।

स्वच्छ गंगा- गंगा सफाई को भाजपा ने फिर से अपने संकल्प पत्र में जगह दी है। भाजपा ने अपने मिशन में इस मुद्दे को रखते हुए साफ किया कि वर्ष 2022 तक गंगा को स्वच्छ करने का लक्ष्य पूरा किया जाएगा ।

 

सभी किसानों को 6 हजार प्रतिवर्ष - पिछले दिनों भाजपा ने किसान सम्मान निधि योजना शुरू की थी, जिसके तहत 2 हेक्टेयर तक जमीन वाले किसानों को हर साल 6 हजार रुपये की आर्थिक मदद सीधे खातों में पहुंचाने का फैसला किया गया था। अब भाजपा ने इसमें कुछ सुधार करते हुए कहा कि अभी सभी किसानों को यह मदद दी जाएगी ।

किसानों को पेंशन - इसी क्रम में कहा गया कि अब किसानों को भी 60 साल की उम्र के बाद उन्हें पेंशन देने की योजना बनाई जाएगी । छोटे और सीमांत किसानों को सामाजिक सुरक्षा के तहत पेंशन देने का फैसला किया गया है।

सैनिक कल्याण का ध्यान - सशस्त्र बलों के सैनिकों के रिटायरमेंट से तीन साल पहले उनकी पसंद के अनुसार ही उनके पुनर्वास की योजना शुरू की जाएगी।

 

Todays Beets: