Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

खुलासा- भारतीय रेलवे और IRCTC ऑनलाइन टिकट लेने पर वसूलते हैं ज्यादा किराया , CCI ने दिए जांच के आदेश

अंग्वाल संवाददाता
खुलासा- भारतीय रेलवे और IRCTC ऑनलाइन टिकट लेने पर वसूलते हैं ज्यादा किराया , CCI ने दिए जांच के आदेश

नई दिल्ली । रेलवे की टिकट खिड़की के बजाए ऑन लाइन टिकट खरीदने वाले लोगों से भारतीय रेलवे और उसकी इकाई आईआरसीटीसी द्वारा ज्यादा किराया वसूलने का मुद्दा विवादों में आ गया है। इस मामले की गंभीरता को देखते हुए भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग यानी सीसीआई ने ई टिकट ब्रिकी में मूल कीमत से ज्यादा किराया वसूलने के मामले की जांच के आदेश दिए हैं। सीसीआई ने यह आदेश अहमदाबाद के मीत शाह और राजकोट के आनंद रणपाड़ा की उस शिकायत के बाद दिया है, जिसमें उन्होंने भारतीय रेल और भारतीय रेलवे खानपान एंव पर्यटन निगम लिमिटेड (IRCTC) द्वारा ज्यादा ऑनलाइन टिकट खरीदने पर ज्यादा कीमत वसूलने के आरोप लगाए थे।

बता दें कि पिछले दिनों गुजरात के अमहदाबाद निवासी मीत शाह और राजकोट के आनंद ने आईआरसीटी और रेलवे के खिलाफ शिकायत करते हुए कहा कि दोनों की वास्तविक आधार किराया पर पहुंचने के लिए किराये को 5 के गुण के में निकटतम ऊपरी अँक में तय करते हैं। इससे ई टिकट में रेल टिकट ब्रिकी के लिए लोगों पर कई अनुचित शर्तों को थोपा जा रहा है। इस शिकायत के बाद सीसीआई ने दोनों को प्रथम दृष्टया नियमों के उल्लंघन का दोषी पाया । इसके बाद सीसीआई ने गत 9 नवंबर को इस मामले की जांच के आदेश दिए। इस दौरान कहा गया है कि इस मा्मले की जांच के दौरान उन लोगों की भी जांच की जाए, जो इस मामले से जुड़े हुए हैं।


सीसीआई ने अपने आदेश के साथ ही कहा है कि शिकायत मिलने के बाद प्राथमिक जांच से ऐसा प्रतीत होता है कि रेल मंत्रालय और आईआरसीटीसी बिना किसी उचित कारण के ऑनलाइन बुकिंग करने वाले यात्रियों से किराया राउंड ऑफ करके लेता है। हालांकि इन शिकायतों पर दोनों ही इकाइयों का कहना है कि टिकट मामले में खुदरा राशि लेने और देने से लेन-देन का समय बढ़ेगा। ऐसे में यात्रियों को तेज सेवा देने के उद्देश्य से किराये को राउंड ऑफ करने का फैसला लिया गया है। 

Todays Beets: