Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

सरकार बेच सकती है कि एयर इंडिया के 100 फीसदी शेयर, निजीकरण की प्रक्रिया पर हो रहा विचार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकार बेच सकती है कि एयर इंडिया के 100 फीसदी शेयर, निजीकरण की प्रक्रिया पर हो रहा विचार

नई दिल्ली। घाटे में चल रही एयर इंडिया की हिस्सेदारी बेचने की असफल कोशिशों के बीच अब सरकार ने इसे घाटे से उबारने के लिए नए तरीके आजमाने शुरू कर दिए हैं।   सरकार की ओर से कहा है कि अब इसके लिए नई गाइडलाइंस जारी की जाएगी। ताकि ज्यादा से ज्यादा निवेशकों को आकर्षित किया जा सके। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने बताया कि एयर इंडिया में लगे क्लॉज माइनरिटी स्टेट स्टेक समेत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रशासन निजीकरण प्रक्रिया पर पुनर्विचार करने को तैयार है।

ये भी पढ़ें - वर्ली में दीपिका पादुकोण की रिहाइश वाली 33 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग, दमकल की 8 गाड़ियां आग...

गौरतलब है कि सचिव सुभाष गर्ग ने बताया कि सरकार कई विकल्पों पर विचार कर रही है और कंपनी के 24 फीसदी शेयर अपने पास रखने का भी उसका कोई इरादा नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा पहले दिए गए प्रस्ताव निवेशकों का लुभा नहीं पाए इस वजह से अब कुछ अलग करने का विचार किया गया।  सुभाष गर्ग ने बताया कि ऐसा कुछ फिक्स्ड नहीं है कि सरकार के पास इसका 24 फीसदी हिस्सा होना ही चाहिए। इस पर पुनर्विचार किया जा सकता है।


 

यहां बता दें कि एयर इंडिया को घाटे से उबारने के लिए प्राईवेट हाथों में देने की योजना को उस वक्त झटका लगा था जब एयरलाइंस के 76 फीसद शेयर बेचने की आखिरी तारीख 31 मई निकल जाने के बावजूद किसी भी खरीददार ने उसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई। 

Todays Beets: