Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

सरकार बेच सकती है कि एयर इंडिया के 100 फीसदी शेयर, निजीकरण की प्रक्रिया पर हो रहा विचार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकार बेच सकती है कि एयर इंडिया के 100 फीसदी शेयर, निजीकरण की प्रक्रिया पर हो रहा विचार

नई दिल्ली। घाटे में चल रही एयर इंडिया की हिस्सेदारी बेचने की असफल कोशिशों के बीच अब सरकार ने इसे घाटे से उबारने के लिए नए तरीके आजमाने शुरू कर दिए हैं।   सरकार की ओर से कहा है कि अब इसके लिए नई गाइडलाइंस जारी की जाएगी। ताकि ज्यादा से ज्यादा निवेशकों को आकर्षित किया जा सके। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने बताया कि एयर इंडिया में लगे क्लॉज माइनरिटी स्टेट स्टेक समेत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रशासन निजीकरण प्रक्रिया पर पुनर्विचार करने को तैयार है।

ये भी पढ़ें - वर्ली में दीपिका पादुकोण की रिहाइश वाली 33 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग, दमकल की 8 गाड़ियां आग...

गौरतलब है कि सचिव सुभाष गर्ग ने बताया कि सरकार कई विकल्पों पर विचार कर रही है और कंपनी के 24 फीसदी शेयर अपने पास रखने का भी उसका कोई इरादा नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा पहले दिए गए प्रस्ताव निवेशकों का लुभा नहीं पाए इस वजह से अब कुछ अलग करने का विचार किया गया।  सुभाष गर्ग ने बताया कि ऐसा कुछ फिक्स्ड नहीं है कि सरकार के पास इसका 24 फीसदी हिस्सा होना ही चाहिए। इस पर पुनर्विचार किया जा सकता है।


 

यहां बता दें कि एयर इंडिया को घाटे से उबारने के लिए प्राईवेट हाथों में देने की योजना को उस वक्त झटका लगा था जब एयरलाइंस के 76 फीसद शेयर बेचने की आखिरी तारीख 31 मई निकल जाने के बावजूद किसी भी खरीददार ने उसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई। 

Todays Beets: