Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

भाजपा शासित छत्तीसगढ़ ने पेट्रोल-डीजल की कीमतें कम करने से किया इंकार, गुजरात और मुंबई में घटे दाम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भाजपा शासित छत्तीसगढ़ ने पेट्रोल-डीजल की कीमतें कम करने से किया इंकार, गुजरात और मुंबई में घटे दाम

रायपुर। केन्द्र की भाजपा सरकार को उसकी ही पार्टी वाली छत्तीसगढ़ की सरकार ने झटका दे दिया है। पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दामों पर लोगों का गुस्सा कम करने के लिए भाजपा शासित राज्यों में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले वैट को कम करने की अपील की थी, कुछ राज्यों ने बात मानकर वैट कम कर दिया है लेकिन छत्तीसगढ़ ने ऐसा करने से मना कर दिया है। राज्य सरकार का कहना है कि उनके राज्य में डीजल-पेट्रोल पर लगा वैट पहले से बाकी राज्यों के मुकाबले कम है। 

गुजरात ने घटाया वैट

गौरतलब है कि अन्तरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की घटती कीमतों के बावजूद देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई कमी नहीं आ रही है। इसके चलते सरकार को लगातार लोगों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। लोगों की नाराजगी कम करने और उन्हें आर्थिक राहत देने के लिए भाजपा शासित राज्यों से पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले वैट को कम करने की अपील की थी। केन्द्रीय अपील को मानकर गुजरात में वैट 3 रुपये कम कर दिया गया जिससे वहां पेट्रोल की कीमतों में कमी आ गई है। गुजरात सरकार द्वारा वैट कम करने पर विपक्ष ने इसे लोगों को लुभाने के लिए किया जा रहा इंतजाम बताया क्योंकि गुजरात में कुछ ही समय बाद चुनाव होने वाले हैं। आपको बता दें कि गुजरात के बाद मुंबई की फड़णवीस सरकार ने भी पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले वैट को कम करने का फैसला लिया है।

ये भी पढ़ें - 'सहाराश्री' के खिलाफ सेबी पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, एंबी वैली की नीलामी में बाधा पहुंचाने का लगाया आरोप


पहली बार घटाई एक्साइज ड्यूटी

वहीं दूसरी ओर भाजपा शासित छत्तीसगढ़ ने ऐसा करने से मना कर दिया है। मुख्यमंत्री रमन सिंह का कहना है कि उनके यहां पेट्रोल -डीजल पर लगने वाला वैट पहले से ही काफी कम है। यहां एक बात गौर करने वाली है कि इसी महीने केंद्र सरकार ने अपने कार्यकाल में पहली बार पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम की थी और राज्य सरकारों को कहा था कि लोगों को राहत देने के लिए वे वैट को कम करें तब केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि वैट में कटौती लोगों को आर्थिक राहत देने के लिए की जा रही है। वहीं पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सभी राज्यों से 5 फीसदी वैट कम करने को कहा था। 

 

Todays Beets: