Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

नई दिल्ली । चीन ने भारत को अब तक की सबसे बड़ी धमकी दी है। चीनी  मीडिया के जरिए चीनी सरकार ने एक बार फिर भारत को धमकी देते हुए कहा कि अगर भारतीय सेना पीछे नहीं हटी तो युद्ध होकर ही रहेगा। यह हमारी ओर से आखिरी चेतावनी है। उन्होंने कहा कि जो गलती नेहरू ने 1962 में की थी वही अब मोदी सरकार कर रही है। भारत की सुरक्षा एजेंसियां मोदी को पूरे घटनाक्रम का सच नहीं बता रही है। इतना ही नहीं चीन की सरकार के साथ चीनी मीडिया और वहां के कई विचारक इस तरह के बयान आएदिन दे रहे हैं। बहरहाल, चीन के इस बयान पर अभी तक भारत सरकार की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

बता दें कि डोकलाम विवाद के चलते इन दिनों भारत और चीन के बीच गतिरोध चरम पर है। आए दिन चीन भारत को गीदड़भभकी देता रहता है। हालांकि कूटनीतिक चालों में फेल होने के बाद चीन ने अब भारत को युद्ध की अंतिम चेतावनी देने की बात कही है। चीन के बड़े अखबार ग्लोबल टाइम्स की ओर से कहा गया है कि अगर भारत डोकलाम विवाद को खत्म करने के लिए अपनी सेना को पीछे नहीं हटता तो युद्ध होकर ही रहेगा। अमूमन माना जाता है कि चीन का यह अखबार एक तरह से वहां की सरकार का ही मुखपत्र है। ऐसे में अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट सरकार की मंशा की ही प्रतिछाया है। 


अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि सन 1962 में नेहरू ने भी यही सोचा था कि चीन उन पर कभी हमला नहीं करेगा और अपनी जिद पर अड़े हुए थे, लेकिन भारत को बाद में उसके परिणाम भुगतने पड़े। इसी तरह एक बार फिर भारतीय सुरक्षा एजेंसियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूरे घटनाक्रम से रूबरू नहीं करवा रही है। एक बार फिर भारत 1962 में नेहरू जैसी नादानी को दोहरा रहा है। 

Todays Beets: