Wednesday, September 20, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

नई दिल्ली । चीन ने भारत को अब तक की सबसे बड़ी धमकी दी है। चीनी  मीडिया के जरिए चीनी सरकार ने एक बार फिर भारत को धमकी देते हुए कहा कि अगर भारतीय सेना पीछे नहीं हटी तो युद्ध होकर ही रहेगा। यह हमारी ओर से आखिरी चेतावनी है। उन्होंने कहा कि जो गलती नेहरू ने 1962 में की थी वही अब मोदी सरकार कर रही है। भारत की सुरक्षा एजेंसियां मोदी को पूरे घटनाक्रम का सच नहीं बता रही है। इतना ही नहीं चीन की सरकार के साथ चीनी मीडिया और वहां के कई विचारक इस तरह के बयान आएदिन दे रहे हैं। बहरहाल, चीन के इस बयान पर अभी तक भारत सरकार की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

बता दें कि डोकलाम विवाद के चलते इन दिनों भारत और चीन के बीच गतिरोध चरम पर है। आए दिन चीन भारत को गीदड़भभकी देता रहता है। हालांकि कूटनीतिक चालों में फेल होने के बाद चीन ने अब भारत को युद्ध की अंतिम चेतावनी देने की बात कही है। चीन के बड़े अखबार ग्लोबल टाइम्स की ओर से कहा गया है कि अगर भारत डोकलाम विवाद को खत्म करने के लिए अपनी सेना को पीछे नहीं हटता तो युद्ध होकर ही रहेगा। अमूमन माना जाता है कि चीन का यह अखबार एक तरह से वहां की सरकार का ही मुखपत्र है। ऐसे में अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट सरकार की मंशा की ही प्रतिछाया है। 


अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि सन 1962 में नेहरू ने भी यही सोचा था कि चीन उन पर कभी हमला नहीं करेगा और अपनी जिद पर अड़े हुए थे, लेकिन भारत को बाद में उसके परिणाम भुगतने पड़े। इसी तरह एक बार फिर भारतीय सुरक्षा एजेंसियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूरे घटनाक्रम से रूबरू नहीं करवा रही है। एक बार फिर भारत 1962 में नेहरू जैसी नादानी को दोहरा रहा है। 

Todays Beets: