Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

नई दिल्ली । चीन ने भारत को अब तक की सबसे बड़ी धमकी दी है। चीनी  मीडिया के जरिए चीनी सरकार ने एक बार फिर भारत को धमकी देते हुए कहा कि अगर भारतीय सेना पीछे नहीं हटी तो युद्ध होकर ही रहेगा। यह हमारी ओर से आखिरी चेतावनी है। उन्होंने कहा कि जो गलती नेहरू ने 1962 में की थी वही अब मोदी सरकार कर रही है। भारत की सुरक्षा एजेंसियां मोदी को पूरे घटनाक्रम का सच नहीं बता रही है। इतना ही नहीं चीन की सरकार के साथ चीनी मीडिया और वहां के कई विचारक इस तरह के बयान आएदिन दे रहे हैं। बहरहाल, चीन के इस बयान पर अभी तक भारत सरकार की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

बता दें कि डोकलाम विवाद के चलते इन दिनों भारत और चीन के बीच गतिरोध चरम पर है। आए दिन चीन भारत को गीदड़भभकी देता रहता है। हालांकि कूटनीतिक चालों में फेल होने के बाद चीन ने अब भारत को युद्ध की अंतिम चेतावनी देने की बात कही है। चीन के बड़े अखबार ग्लोबल टाइम्स की ओर से कहा गया है कि अगर भारत डोकलाम विवाद को खत्म करने के लिए अपनी सेना को पीछे नहीं हटता तो युद्ध होकर ही रहेगा। अमूमन माना जाता है कि चीन का यह अखबार एक तरह से वहां की सरकार का ही मुखपत्र है। ऐसे में अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट सरकार की मंशा की ही प्रतिछाया है। 


अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि सन 1962 में नेहरू ने भी यही सोचा था कि चीन उन पर कभी हमला नहीं करेगा और अपनी जिद पर अड़े हुए थे, लेकिन भारत को बाद में उसके परिणाम भुगतने पड़े। इसी तरह एक बार फिर भारतीय सुरक्षा एजेंसियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूरे घटनाक्रम से रूबरू नहीं करवा रही है। एक बार फिर भारत 1962 में नेहरू जैसी नादानी को दोहरा रहा है। 

Todays Beets: