Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीन की धमकी, कहा- यह युद्ध की अंतिम चेतावनी, पीछे नहीं हटे तो होगा युद्ध, नेहरू जैसी नादानी न करें

नई दिल्ली । चीन ने भारत को अब तक की सबसे बड़ी धमकी दी है। चीनी  मीडिया के जरिए चीनी सरकार ने एक बार फिर भारत को धमकी देते हुए कहा कि अगर भारतीय सेना पीछे नहीं हटी तो युद्ध होकर ही रहेगा। यह हमारी ओर से आखिरी चेतावनी है। उन्होंने कहा कि जो गलती नेहरू ने 1962 में की थी वही अब मोदी सरकार कर रही है। भारत की सुरक्षा एजेंसियां मोदी को पूरे घटनाक्रम का सच नहीं बता रही है। इतना ही नहीं चीन की सरकार के साथ चीनी मीडिया और वहां के कई विचारक इस तरह के बयान आएदिन दे रहे हैं। बहरहाल, चीन के इस बयान पर अभी तक भारत सरकार की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

बता दें कि डोकलाम विवाद के चलते इन दिनों भारत और चीन के बीच गतिरोध चरम पर है। आए दिन चीन भारत को गीदड़भभकी देता रहता है। हालांकि कूटनीतिक चालों में फेल होने के बाद चीन ने अब भारत को युद्ध की अंतिम चेतावनी देने की बात कही है। चीन के बड़े अखबार ग्लोबल टाइम्स की ओर से कहा गया है कि अगर भारत डोकलाम विवाद को खत्म करने के लिए अपनी सेना को पीछे नहीं हटता तो युद्ध होकर ही रहेगा। अमूमन माना जाता है कि चीन का यह अखबार एक तरह से वहां की सरकार का ही मुखपत्र है। ऐसे में अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट सरकार की मंशा की ही प्रतिछाया है। 


अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि सन 1962 में नेहरू ने भी यही सोचा था कि चीन उन पर कभी हमला नहीं करेगा और अपनी जिद पर अड़े हुए थे, लेकिन भारत को बाद में उसके परिणाम भुगतने पड़े। इसी तरह एक बार फिर भारतीय सुरक्षा एजेंसियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूरे घटनाक्रम से रूबरू नहीं करवा रही है। एक बार फिर भारत 1962 में नेहरू जैसी नादानी को दोहरा रहा है। 

Todays Beets: