Monday, December 11, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

डोकलाम विवाद पर जब चीन की धमकियों से नहीं डरा भारत, तो नेपाल के जरिए भारत पर दबाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा ड्रैगन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
डोकलाम विवाद पर जब चीन की धमकियों से नहीं डरा भारत, तो नेपाल के जरिए भारत पर दबाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा ड्रैगन

नई दिल्ली।

सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच जारी तनातनी में नया मोड़ आ गया है, जिससे भारत की चिंताएं बढ़ गई हैं। दरअसल, जब डोकलाम को लेकर चीन की धमकियों का भारत पर कोई असर नहीं हुआ, तो चीन ने इस मुद्दे पर कूटनीतिक दबाव बनाने के लिए नई चाल चली है। अपनी इस चाल के तहत चीन ने डोकलाम को लेकर नेपाल से बात की है। चीन की नेपाल से बात को लेकर भारत की परेशानी बढ़ गई है, क्योंकि भारत इस विवादित क्षेत्र में नेपाल के साथ ट्रांइजंक्शन शेयर करता है। साथ ही भारत पिछले कुछ समय से नेपाल में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए संघर्ष भी कर रहा है।

ये भी पढ़ें— अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता के समर्थन की पुष्टि की

जानकारी के अनुसार, चीन के डिप्टी चीफ ने इस मुद्दे को लेकर नेपाल में अपने समकक्ष से बातचीत की है। उन्होंने बातचीत में चीन की स्थिति को स्पष्ट कर दिया है। चीन इस बात पर अड़ा है कि भारत के साथ सार्थक वार्ता करने के लिए पहले उसे डोकलाम क्षेत्र से अपने सैनिकों को पीछे हटाना पड़ेगा। चीनी राजनयिकों ने काठमांडू और बीजिंग में इसी मुद़दे पर नेपाल के अधिकारियों के साथ मुलाकात की है।

ये भी पढ़ें— चीन ने आतंकी मसूद अजहर को बचाया, ग्लोबल टेरेरिस्ट सूची में नाम डालने में अटकाया रोड़ा

हालांकि भारत ने अभी तक सार्वजनिक रूप इस मुद्दे पर किसी भी विदेशी उच्चायोग से अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं की है। हालांकि कुछ हफ्तों पहले भारत ने अमेरिकी राजनयिकों से इस मुद्दे पर चर्चा की थी। अभी तक नेपाल की ओर से भी इस मुद्दे पर भारत से कोई भी जानकारी नहीं मांगी गई है। जानकारी के अनुसार, नेपाल इस बात को लेकर चिंतित है कि चीन, भारत और भूटान के बीच बढ़ता विवाद नेपाल के हित में नहीं है। 


ये भी पढ़ें—  डोकलाम विवाद पर चीन ने जारी किया 15 पेज का बयान, कहा- 400 भारतीय सैनिक बुलडोजर लेकर सीमा में घुस आए

बता दें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज BIMSTEC की बैठक में शामिल होने के लिए अगले हफ्ते नेपाल जाने वाली हैं। वहीं, चीन के उप प्रधानमंत्री भी 14 अगस्त को नेपाल में होंगे। उम्मीद की जा रही है कि सुषमा और चीनी उप प्रधानमंत्री के बीच डोकलाम के मुद्दे पर चर्चा हो सकती है।

 

 

 

 

Todays Beets: