Tuesday, August 22, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

डोकलाम विवाद पर जब चीन की धमकियों से नहीं डरा भारत, तो नेपाल के जरिए भारत पर दबाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा ड्रैगन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
डोकलाम विवाद पर जब चीन की धमकियों से नहीं डरा भारत, तो नेपाल के जरिए भारत पर दबाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा ड्रैगन

नई दिल्ली।

सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच जारी तनातनी में नया मोड़ आ गया है, जिससे भारत की चिंताएं बढ़ गई हैं। दरअसल, जब डोकलाम को लेकर चीन की धमकियों का भारत पर कोई असर नहीं हुआ, तो चीन ने इस मुद्दे पर कूटनीतिक दबाव बनाने के लिए नई चाल चली है। अपनी इस चाल के तहत चीन ने डोकलाम को लेकर नेपाल से बात की है। चीन की नेपाल से बात को लेकर भारत की परेशानी बढ़ गई है, क्योंकि भारत इस विवादित क्षेत्र में नेपाल के साथ ट्रांइजंक्शन शेयर करता है। साथ ही भारत पिछले कुछ समय से नेपाल में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए संघर्ष भी कर रहा है।

ये भी पढ़ें— अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता के समर्थन की पुष्टि की

जानकारी के अनुसार, चीन के डिप्टी चीफ ने इस मुद्दे को लेकर नेपाल में अपने समकक्ष से बातचीत की है। उन्होंने बातचीत में चीन की स्थिति को स्पष्ट कर दिया है। चीन इस बात पर अड़ा है कि भारत के साथ सार्थक वार्ता करने के लिए पहले उसे डोकलाम क्षेत्र से अपने सैनिकों को पीछे हटाना पड़ेगा। चीनी राजनयिकों ने काठमांडू और बीजिंग में इसी मुद़दे पर नेपाल के अधिकारियों के साथ मुलाकात की है।

ये भी पढ़ें— चीन ने आतंकी मसूद अजहर को बचाया, ग्लोबल टेरेरिस्ट सूची में नाम डालने में अटकाया रोड़ा

हालांकि भारत ने अभी तक सार्वजनिक रूप इस मुद्दे पर किसी भी विदेशी उच्चायोग से अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं की है। हालांकि कुछ हफ्तों पहले भारत ने अमेरिकी राजनयिकों से इस मुद्दे पर चर्चा की थी। अभी तक नेपाल की ओर से भी इस मुद्दे पर भारत से कोई भी जानकारी नहीं मांगी गई है। जानकारी के अनुसार, नेपाल इस बात को लेकर चिंतित है कि चीन, भारत और भूटान के बीच बढ़ता विवाद नेपाल के हित में नहीं है। 


ये भी पढ़ें—  डोकलाम विवाद पर चीन ने जारी किया 15 पेज का बयान, कहा- 400 भारतीय सैनिक बुलडोजर लेकर सीमा में घुस आए

बता दें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज BIMSTEC की बैठक में शामिल होने के लिए अगले हफ्ते नेपाल जाने वाली हैं। वहीं, चीन के उप प्रधानमंत्री भी 14 अगस्त को नेपाल में होंगे। उम्मीद की जा रही है कि सुषमा और चीनी उप प्रधानमंत्री के बीच डोकलाम के मुद्दे पर चर्चा हो सकती है।

 

 

 

 

Todays Beets: