Monday, October 23, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

डोकलाम विवाद पर जब चीन की धमकियों से नहीं डरा भारत, तो नेपाल के जरिए भारत पर दबाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा ड्रैगन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
डोकलाम विवाद पर जब चीन की धमकियों से नहीं डरा भारत, तो नेपाल के जरिए भारत पर दबाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा ड्रैगन

नई दिल्ली।

सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच जारी तनातनी में नया मोड़ आ गया है, जिससे भारत की चिंताएं बढ़ गई हैं। दरअसल, जब डोकलाम को लेकर चीन की धमकियों का भारत पर कोई असर नहीं हुआ, तो चीन ने इस मुद्दे पर कूटनीतिक दबाव बनाने के लिए नई चाल चली है। अपनी इस चाल के तहत चीन ने डोकलाम को लेकर नेपाल से बात की है। चीन की नेपाल से बात को लेकर भारत की परेशानी बढ़ गई है, क्योंकि भारत इस विवादित क्षेत्र में नेपाल के साथ ट्रांइजंक्शन शेयर करता है। साथ ही भारत पिछले कुछ समय से नेपाल में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए संघर्ष भी कर रहा है।

ये भी पढ़ें— अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता के समर्थन की पुष्टि की

जानकारी के अनुसार, चीन के डिप्टी चीफ ने इस मुद्दे को लेकर नेपाल में अपने समकक्ष से बातचीत की है। उन्होंने बातचीत में चीन की स्थिति को स्पष्ट कर दिया है। चीन इस बात पर अड़ा है कि भारत के साथ सार्थक वार्ता करने के लिए पहले उसे डोकलाम क्षेत्र से अपने सैनिकों को पीछे हटाना पड़ेगा। चीनी राजनयिकों ने काठमांडू और बीजिंग में इसी मुद़दे पर नेपाल के अधिकारियों के साथ मुलाकात की है।

ये भी पढ़ें— चीन ने आतंकी मसूद अजहर को बचाया, ग्लोबल टेरेरिस्ट सूची में नाम डालने में अटकाया रोड़ा

हालांकि भारत ने अभी तक सार्वजनिक रूप इस मुद्दे पर किसी भी विदेशी उच्चायोग से अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं की है। हालांकि कुछ हफ्तों पहले भारत ने अमेरिकी राजनयिकों से इस मुद्दे पर चर्चा की थी। अभी तक नेपाल की ओर से भी इस मुद्दे पर भारत से कोई भी जानकारी नहीं मांगी गई है। जानकारी के अनुसार, नेपाल इस बात को लेकर चिंतित है कि चीन, भारत और भूटान के बीच बढ़ता विवाद नेपाल के हित में नहीं है। 


ये भी पढ़ें—  डोकलाम विवाद पर चीन ने जारी किया 15 पेज का बयान, कहा- 400 भारतीय सैनिक बुलडोजर लेकर सीमा में घुस आए

बता दें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज BIMSTEC की बैठक में शामिल होने के लिए अगले हफ्ते नेपाल जाने वाली हैं। वहीं, चीन के उप प्रधानमंत्री भी 14 अगस्त को नेपाल में होंगे। उम्मीद की जा रही है कि सुषमा और चीनी उप प्रधानमंत्री के बीच डोकलाम के मुद्दे पर चर्चा हो सकती है।

 

 

 

 

Todays Beets: