Wednesday, April 24, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

Breaking News - राहुल ने राफेल सौदे पर दागी 'ई-मेल मिसाइल', दावा - रक्षामंत्री को सौदे का पता नहीं लेकिन 10 दिन पहले अनिल अंबानी को पूरी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Breaking News - राहुल ने राफेल सौदे पर दागी

नई दिल्ली । लोकसभा चुनावों की तैयारी में जुटे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार को राफेल सौदे को लेकर आड़े हाथों लिया। राहुल गांधी ने एक ई मेल को लोगों को सामने रखा, जिसमें फ्रांस के रक्षामंत्री से भारतीय बिजनेस मैन अनिल अंबानी के मुलाकात की बातों का जिक्र है। राहुल गांधी ने इस ई-मेल के बारे में जिक्र करते हुए कहा कि एयरबस कंपनी के एक एक्जीक्यूटिव की एक मेल से राफेल सौदे में अनिल अंबानी की भूमिका सामने आई है। उन्होंने कहा कि मेल में लिखा गया है कि फ्रांस के रक्षामंत्री से अनिल अंबानी मिले थे, जिन्हें फ्रांस के रक्षामंत्री को बताया कि 10 दिन बाद भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी आएंगे और राफेल सौदे पर एक MOU साइन करेंगे। इस दौरान राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री पर आपराधिक कार्रवाई करने की मांग की। 

विदेश सचिव को नहीं पता पर अंबानी को कैसे पता...

इस दौरान राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला बालते हुए कहा कि इस राफेल सौदे को लेकर जब भारतीय रक्षामंत्री ने कहा कि उन्हें सौदे के बारे में नहीं पता है, न ही इस सौदे की जानकारी विदेश सचिव को और एचएएल को थी, लेकिन राफेल सौदे से 10 दिन पहले अनिल अंबानी को कैसे हो गई। क्या पीएम मोदी ने अनिल अंबानी के मिडेल मैन के रूप में काम किया है। पीएम मोदी ने अनिल अंबानी की मदद की। लेकिन अब सच्चाई धीरे-धीरे सामने आ रही है।  

सौदा छिपाने का प्रयास हो रहा है


कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि एयरबस कंपनी के एक्जीक्यूटिव की इस मेल के सामने आने के बाद साफ हो गया है कि देश के रक्षामंत्री को भले ही देश के सबसे बड़े रक्षा सौदे के बारे में नहीं पता था, लेकिन पीएम मोदी ने गोपनीयता के कानून का उल्लंघन करते हुए इसकी जानकारी अनिल अंबानी को दी। अब मोदी सरकार इस सौदे को छिपाने का प्रयास कर रही है।

CAG को दी नहीं परिभाषा

इस दौरान राहुल गांधी ने कैग को नए रूप में परिभाषित करते हुए कहा कि कैग की परिभाषा बदल गई है। कैग मतलब चौकीदार ऑडिटर जनरल रिपोर्ट है। अब ऐसे में मेरे खिलाफ जितनी जांच करनी है, मोदी सरकार करे, विपक्ष के खिलाफ जितनी जांच बैठानी है बैठाए, लेकिन इस सौदे पर बताए कि जो सूचना देश के रक्षामंत्री को नहीं थी, वह अनिल अंबानी को कैसे हुई। साफ है पीएम मोदी ने दी है। मोदी एक भ्रष्ट नेता है। मोदी सच्चाई से डर रहे हैं , इसलिए इस मामले की जेपीसी जांच से डर रहे हैं।

Todays Beets: