Friday, October 19, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

दिल्ली के झंडेवालान में मौजूद 108 फुट ऊंची हनुमान की मूर्ति एयरलिफ्ट कर दूसरी जगह होगी स्थापित!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली के झंडेवालान में मौजूद 108 फुट ऊंची हनुमान की मूर्ति एयरलिफ्ट कर दूसरी जगह होगी स्थापित!

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने एमसीडी और सिविक एजेंसियों को दिल्ली के करोल बाग और झंडेवालान के बीच मौजूद विशाल हनुमान की मूर्ति को एयरलिफ्ट करने की संभावनाओं को तलाशने के निर्देश दिए हैं। हाईकोर्ट ने यह निर्देश एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए दिए, जिसमें करोल बाग की सड़कों पर लगातार बढ़ रही अतिक्रमण को लेकर कार्यवाही किए जाने की मांग की गई थी। इस याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने एमसीडी और सिविक एजेंसियों को इस बात की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए हैं कि क्या इस मूर्ति को यहां से हटाकर किसी दूसरी जगह स्थापित किया जा सकता है।

इस दौरान हाईकोर्ट ने सिविक एजेंसियों को फटकार लगाते हुए पूछा कि सिविक एजेंसी दिल्ली में किसी एक जगह के बारे में जानकारी दें, जहां पर अतिक्रमण ना हुआ हो और वहां यातायात के नियमों का पालन होता हो। 

बता दें कि हाईकोर्ट के कार्यकारी चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा- करोल बाग और झंडेवालान के बीच करीब डेढ़ दशक पुरानी 108 फुट ऊंची हनुमान की मूर्ति को एयरलिफ्ट किया जा सकता है या नहीं। सिविक एजेंसिया और एमसीडी इस मुद्दे पर अपनी रिपोर्ट दे। इस मुद्दे में दोनों की एजेंसियां उपराज्यपाल के साथ भी बैठक करें और इसे एयलिफ्ट कराने के संबंध में मंथन करें। 


याचिका पर सुनवाई करते हुए पीठ ने कहा अमेरिका में भी कई जगहों पर कई ऊंची-ऊंची बिल्डिंगें एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट की जाती हैं, क्या हम भी ऐसा कर सकते हैं। 

बता दें कि हनुमान मूर्ति के आसपास अतिक्रमण हटाने का मुद्दा तब सामने आया, जब सिविक एजेंसियों ने हाईकोर्ट से संबंधित इलाके के एक थाने से जुड़े आदेश में संशोधन की मांग की। 15 नवंबर तक अतिक्रमण हटाने का निर्देश दिया गया था, लेकिन हाईकोर्ट ने इसमें बदलाव करते हुए सुनवाई की अगली तारीफ 24 नवंबर तय की है।

Todays Beets: