Friday, July 20, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

दिल्ली के झंडेवालान में मौजूद 108 फुट ऊंची हनुमान की मूर्ति एयरलिफ्ट कर दूसरी जगह होगी स्थापित!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली के झंडेवालान में मौजूद 108 फुट ऊंची हनुमान की मूर्ति एयरलिफ्ट कर दूसरी जगह होगी स्थापित!

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने एमसीडी और सिविक एजेंसियों को दिल्ली के करोल बाग और झंडेवालान के बीच मौजूद विशाल हनुमान की मूर्ति को एयरलिफ्ट करने की संभावनाओं को तलाशने के निर्देश दिए हैं। हाईकोर्ट ने यह निर्देश एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए दिए, जिसमें करोल बाग की सड़कों पर लगातार बढ़ रही अतिक्रमण को लेकर कार्यवाही किए जाने की मांग की गई थी। इस याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने एमसीडी और सिविक एजेंसियों को इस बात की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए हैं कि क्या इस मूर्ति को यहां से हटाकर किसी दूसरी जगह स्थापित किया जा सकता है।

इस दौरान हाईकोर्ट ने सिविक एजेंसियों को फटकार लगाते हुए पूछा कि सिविक एजेंसी दिल्ली में किसी एक जगह के बारे में जानकारी दें, जहां पर अतिक्रमण ना हुआ हो और वहां यातायात के नियमों का पालन होता हो। 

बता दें कि हाईकोर्ट के कार्यकारी चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा- करोल बाग और झंडेवालान के बीच करीब डेढ़ दशक पुरानी 108 फुट ऊंची हनुमान की मूर्ति को एयरलिफ्ट किया जा सकता है या नहीं। सिविक एजेंसिया और एमसीडी इस मुद्दे पर अपनी रिपोर्ट दे। इस मुद्दे में दोनों की एजेंसियां उपराज्यपाल के साथ भी बैठक करें और इसे एयलिफ्ट कराने के संबंध में मंथन करें। 


याचिका पर सुनवाई करते हुए पीठ ने कहा अमेरिका में भी कई जगहों पर कई ऊंची-ऊंची बिल्डिंगें एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट की जाती हैं, क्या हम भी ऐसा कर सकते हैं। 

बता दें कि हनुमान मूर्ति के आसपास अतिक्रमण हटाने का मुद्दा तब सामने आया, जब सिविक एजेंसियों ने हाईकोर्ट से संबंधित इलाके के एक थाने से जुड़े आदेश में संशोधन की मांग की। 15 नवंबर तक अतिक्रमण हटाने का निर्देश दिया गया था, लेकिन हाईकोर्ट ने इसमें बदलाव करते हुए सुनवाई की अगली तारीफ 24 नवंबर तय की है।

Todays Beets: